in

अपने बालों में कराना चाहती हैं केराटिन ट्रीटमेंट या रिबॉन्डिंग? पहले जान लें ये जरूरी बातें

Know About Keratin Treatment Or Rebonding : त्‍योहारों का मौसम शुरू हो चुका है. महिलाएं सिर से लेकर पैर तक अच्‍छी दिखने के लिए तरह-तरह के उपाय कर रही हैं. बालों को नया लुक देने के लिए महिलाएं कई तरह के ट्रीटमेंट्स आजमा रही हैं. बालों में वॉल्‍यूम बढाने और शाइनी हेल्‍दी लुक के लिए दो हेयर ट्रीटमेंट सबसे ज्‍यादा डिमांड में है. हम बात कर रहे हैं केराटिन (Keratin) ट्रीटमेट और रिबॉन्डिंग(Rebonding) की. जी हां, ये दोनों ही ट्रीटमेंट फ्रिजी हेयर को मैनेज करने और स्टाइल (Style) देने में मदद करता है. अगर दोनों को लेकर कन्‍फ्यूज हो रही हैं तो आइए जानते हैं कि इनमें क्‍या समानता और क्‍या अंतर है.

क्‍या है केराटिन ट्रीटमेंट

दरअसल, हमारे लाइफ स्‍टाइल और पॉल्‍यूशन की वजह से बालों से नेचुरल प्रोटीन गायब होने लगते हैं और बाल रूखे बेजान हो जाते हैं जबकि केराटिन ट्रीटमेंट आपके बालों में नेचुरल प्रोटीन को दोबारा से बढाने का काम करता है. एक शोध में पाया गया है कि केराटिन बालों के ग्रोथ और टेक्‍सचर को सुधारने में काफी फायदा पहुंचाता है.

इसे भी पढ़ें : तेल मालिश के हैं कई फायदे, ब्‍लड सर्कुलेशन बेहतर करने के साथ स्किन को भी रखती है हेल्‍दी

क्‍या है रीबॉन्डिंग

दरअसल, रीबॉन्डिंग में केमिकल और हीटिंग प्रक्रिया से बालों को शाइनी और सीधा किया जाता है. एक शोध के अनुसार अगर बालों में रिबॉन्डिंग की जाए तो आपके बालों की प्राकृतिक कोशिका संरचना हमेशा के लिए डिस्‍टर्ब हो सकती है.

केराटिन ट्रीटमेंट और रीबॉन्डिंग बालों को कैसे करते हैं प्रभावित

केराटिन

-यह ट्रीटमेंट फ्रिजी हेयर को मैनेज करने में मदद करता है.

-इससे बाल स्‍ट्रेट, सॉफ्ट और शाइनी होते हैं.

– चूंकि केराटिन बालों का नेचुरल तत्‍व है इसलिए बालों में नेचुरल प्रोटीन फिल करने में आसानी होती है.

– हालांकि इस ट्रीटमेंट में भी कई तरह के प्रोडक्टस इस्तेमाल में यूज किए जाते हैं.

इसे भी पढ़ें : हेयर कलरिंग से पहले इन 5 बातों का रखें ख्याल, बाल दिखेंगे सिल्‍की और खूबसूरत

रीबॉन्डिंग

-रेशमी और सीधे बालों के लिए रीबॉन्डिंग फेमस ट्रीटमेंट है.

-यह बालों को फ्रिज फ्री बनाता है.

– इसके प्रयोग से बाल अधिक आकर्षक और चमकदार दिखते हैं.

-इस ट्रीटमेंट में केमिकल चीजों का प्रयोग किया जाता है.

-बालों के परमानेंट डैमेज की संभावना हो सकती है.

-ये हर बालों के लिए सही होता है.

-कई बार रिबॉन्डिंग से बाल कमजोर हो सकते हैं.

-रिबॉन्डिंग केराटिन ट्रीटमेंट से अधिक समय तक रहती है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

WhatsApp Payments: से ऐसे करें पैसों का लेनदेन, एक मैसेज भेजने जितना आसान है तरीका

KBC 13, October 12: जानिए आज के एपिसोड में पूछे गए कुल 14 सवालों के सही जवाब