in

अमिताभ बच्चन पहली बार बने संगीतकार, आर बाल्की की फिल्म ‘चुप’ में दिया MUSIC

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने फिल्म इंडस्ट्री में अपने लंबे करियर में कई मुकाम हासिल किए हैं. वे एक्टर, सिंगर और फिल्म निर्माता रहे हैं, लेकिन इंडस्ट्री में 54 साल बिताने के बाद भी दिग्गज एक्टर में कुछ नया करने का जुनून कम नहीं हुआ. उन्हें नया-नया काम मिलता रहता है. अमिताभ अपकमिंग फिल्म ‘चुप’ (Chup) के लिए संगीतकार बने हैं.

अमिताभ का नाम पहली बार संगीतकार के रूप में फिल्म के क्रेडिट में दिखाई देगा. ‘चुप: रिवेंज ऑफ द आर्टिस्ट’ का निर्देशन आर बाल्की ने किया है, जो इससे पहले अमिताभ को ‘पा’, ‘चीनी कम’ और ‘शमिताभ’ में निर्देशित कर चुके हैं. फिल्म में दुलकार सलमान, सनी देओल, श्रेया धनवंतरी और पूजा भट्ट हैं.

अमिताभ ने जब आर बाल्की को पियानो पर धुन बजाकर सुनाई
इस फिल्म को दिवंगत फिल्म निर्माता गुरु दत्त को श्रद्धांजलि के रूप में देखा जा रहा है. अमिताभ इस फिल्म से कैसे जुड़े, इस बारे में ई-टाइम्स से बात करते हुए, निर्देशक आर बाल्की ने कहा, ‘यह सब बहुत अचानक हुआ. मैंने अमितजी को फिल्म (चुप) देखने के लिए कहा था. इसे देखने के बाद, उन्होंने मुझे अपने पास बुलाया और अपने पियानो पर एक धुन बजाकर सुनाई. उन्होंने कहा कि फिल्म और पात्रों ने उन्हें ऐसा महसूस कराया है.’

अमिताभ ने फिल्म को उपहार में दिया अपना संगीत
निर्देशक ने आगे बताया, ‘वह धुन दिल को छू रही थी. मैं उत्साहित था. मैंने उनसे पूछा कि क्या मैं इस धुन का इस्तेमाल कर सकता हूं और उन्होंने तुरंत इसे फिल्म को उपहार में दे दिया. ‘चुप’ पहली फिल्म है, जिसे अमितजी की कंपोजिशन आधिकारिक तौर पर प्राप्त हुई है.’

फिल्म ‘चुप’ 23 सितंबर को होगी रिलीज
‘चुप’ एक साइकोलॉजिकल थ्रिलर है, जो 23 सितंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी. फिल्म का टीजर जून में रिलीज किया गया था. फिल्म के बारे में बात करते हुए, आर बाल्की ने पिछले साल एक बयान में कहा था, ‘चुप संवेदनशील कलाकार को एक श्रद्धांजलि है और गुरु दत्त उस सूची में सबसे ऊपर हैं. मेरे पास लंबे समय से कहानी थी और मुझे खुशी है कि हमने आखिरकार इसे लिखा है और इसका फिल्मांकन लगभग पूरा हो चुका है.’

Tags: Amitabh bachchan, R Balki

Source link

इस ब्लड ग्रुप वाले लोगों को कम उम्र में स्ट्रोक का खतरा ज्यादा ! स्टडी में हुआ खुलासा

लक्षण दिखने से पहले हो सकेगी अल्जाइमर की पहचान, नई तकनीक हो सकती है ‘गेमचेंजर’