in

अर्थराइटिस से हैं परेशान तो इन 5 मिथ्स को जरूर जानें, कुछ ही दिनों में कम जो जाएगी समस्या

हाइलाइट्स

टेंडोनाइटिस, बर्साइटिस जैसी चोटों की वजह से भी जोड़ों में दर्द होने लगता हैव्यायाम ताकत भी बढ़ाता है और गठिया के दर्द में मदद भी कर सकता है.

Myth Related To Arthritis: दुनिया भर में अर्थराइटिस की बिमारी एक चिंता का विषय बनकर उबर रही है. अर्थराइटिस में जोड़ों में दर्द और जकड़न सी महसूस होती है, जो समय और उम्र के साथ और भी भयंकर रूप लेने लगती है. ये बिमारी जोड़ों को बुरी तरह से प्रभावित करती है. अगर किसी को ये समस्या हो जाए तो इससे जोड़ों में गाठें बन जाती हैं और चुभन जैसा दर्द महसूस होता है. इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए सावधानी बरतना बेहद जरूरी है.

अर्थराइटिस या गठिया को फैलने से रोका नहीं जा सकता, ये सोचना एक मिथक है. क्योंकि बीमारी कोई भी क्यों न हो, हर खतरे को कम करने में डॉक्टर मददगार साबित होते हैं. कुछ ऐसे ही मिथक अर्थराइटिस से जुड़े कई लोगों को हैं, जिन्हें जान लेना बेहद जरूरी है.

यह भी पढ़ेंः डायबिटीज को खत्म करने का मिल गया इलाज ! इस सब्जी से तैयार करें ‘दवा’

मिथक एक-
मीब्लूपरसपेक्टिव डॉट कॉम के मुताबिकसभी जोड़ों का दर्द अर्थराइटिस है.अर्थराइटिस यानि की गठिया का दर्द सौ से भी ज्यादा तरह के होते हैं. इसके अलावा टेंडोनाइटिस, बर्साइटिस जैसी चोटों की वजह से भी जोड़ों में दर्द होने लगता है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक जोड़ों के आसपास ऐसी संरचनाएं होती हैं, जो दर्द और सूजन का कारण बन सकती हैं. ये दर्द अर्थराइटिस के दर्द जैसा ही हो सकता है.

मिथक दो-बारिश के मौसम में बढ़ सकता है अर्थराइटिस इस बात की पुष्टि कोई भी एक्सपर्ट्स नहीं करते कि बारिश या नम मौसम में अर्थराइटिस का दर्द बढ़ सकता है. गठिया के दर्द को ट्रिगर करने के कारण अलग अलग हो सकते हैं. तनाव. ठंडा मौसम, इन्फेक्शन या वजन बढ़ने की वजह से जोड़ों में दर्द हो सकता है.

मिथक तीन-अर्थराइटिस के दर्द में व्यायाम से बचें मीडियम तरीके से किया गया व्यायाम ताकत भी बढ़ाता है और गठिया के दर्द में मदद भी कर सकता है. डॉक्टर से सलाह लेने के बाद व्यायाम किया जा सकता है.

यह भी पढ़ेंः PM 10 से ज्यादा खतरनाक होता PM 2.5, फेफड़े को पहुंचता है भारी नुकसान

मिथक चार-जोड़ों के दर्द में बर्फ के मुकाबले गरम सेंक बेहतर ठंडा और गर्म दोनों ही गठिया के दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं. रात के वक्त आइस पैक के सेंक से सूजन कम की जा सकती है. वहीं सुबह के वक्त हिटिंग पैड के सेंक से मांसपेशियों को आराम मिल सकता है.

मिथक पांच-ग्लूकोसामाइन की दवा सभी के लिए अच्छी है अर्थराइटिस के सभी तरह के मरीजों के लिए कौन सी दवा बेहतर है कौन सी नहीं ये डॉक्टर ही बता सकते हैं. अर्थराइटिस से जुड़े ये 5 मिथक ऐसे हैं, अगर इन्हें एक बार जान लिया तो समझो परेशानी कम हो जाएगी.

Tags: Health, Lifestyle

Source link

Anushka Shetty PIC: जब अनुष्का शेट्टी ने कटवाए लंबे बाल, पूरी तरह से बदली हुई दिखीं बाहुबली एक्ट्रेस

मीरा राजपूत ने जयपुर से शेयर की तस्वीर, फैंस शाहिद कपूर के साथ-साथ उनकी मम्मी के बारे में करने लगे पूछताछ