in

आलू और चावल को इन नेचुरल तरीके से बनाएं ‘डायबिटीज फ्रेंडली’, वजन भी होगा कम

हाइलाइट्स

इस विधि से आलू का ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स 30 से 40 प्रतिशत तक घट जाता है. ऐसा करने खाने के बाद संतुष्टि अनुभव होती है जिससे पेट भरा लगता है.

Make Potatoes And Rice Diabetes Friendly: चावल और आलू दो ऐसी चीजें हैं जो हमारे रोज के डाइट का हिस्‍सा रहती हैं. लेकिन हाई ग्‍लेसिमिक इंडेक्‍स की वजह से ये दोनों ही डायबिटीज और वजन को बढ़ाने का सबसे ज्‍यादा काम करते हैं. ऐसे में वजन कम करने या डायबिटीज के पेशेंट को सबसे पहले आलू और चावल का सेवन करना मना किया जाता है. लाइफस्‍टाइल कोच ल्यूक कॉटिन्हो का मानना है कि यदि आप इसके कुक करने के तरीके में बदलाव लाएं तो इसका सेवन डायबिटीज के पेशेंट भी कर सकते हैं. ल्‍यूक ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में यह जानकारी दी है कि गट को हेल्‍दी रखने के लिए हमारी जीवन शैली काफी मायने रखती है. ऐसे में अगर आप अपने डाइट से स्‍टार्च के इस्‍तेमाल को कंट्रोल कर दें तो ये आपके गट की सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद हो सकता है. यही नहीं, ऐसा कर आप अपने ब्लड शुगर और वजन को भी कंट्रोल में रख सकते हैं.

क्‍या है कुक और कूल विधि
अपने ब्‍लड शुगर और वजन को हेल्‍दी रखने के लिए चावल और आलू को आप कुछ सिंपल ट्रिक्‍स की मदद से हेल्‍दी बना सकते हैं. इसके लिए आप चावल या आलू को पकाएं और 8-12 घंटे के लिए फ्रिज में ठंडा करने के लिए रख दें. दरअसल, जब चावल या आलू को  पकाकर रेफ्रिजरेशर या कमरे के तापमान पर ठंडा किया जाता है तो वे आरएस नामक एक फाइबर का निर्माण करते हैं. यह खाने को आसानी पचाकर और कोलन में जाता है जो आंतों के गुड बैक्टीरिया का भोजन बन जाता है. ये बैक्‍टीरिया ब्यूटायरेट  का उत्‍पादन करते हैं जो आंतों को हेल्‍दी रखने का काम करता है.

इसे भी पढ़ेंः सर्दी-खांसी से लेकर जोड़ों के दर्द तक में आराम देती हैं अडूसा की पत्तियां, इस तरह करें इस्तेमाल

इस विधि के फायदे
-इस विधि के इस्‍तेमाल से आलू का ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स 30 से 40 प्रतिशत तक घट जाता है.
–ऐसा करने खाने के बाद संतुष्टि अनुभव होती है जिससे पेट भरा लगता है.
–आसानी से पचने वाले कार्ब की तुलना में इसे खाने के बाद ग्‍लूकोज लेवल का असर कम हो जाता है.
–इंसुलिन सेंसिटिविटी बढ़ता है.
–यह प्रीबायोटिक की तरह काम करता है.
–मिनरल्‍स का अवशोषण बढ़ जाता है.
–लिवर फंक्‍शन इंप्रूव करता है.

इसे भी पढ़ेंः ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखता है इलायची का पानी, दूर होती है गैस की समस्या

 इन लोगों के लिए फायदेमंद
अगर आप इस तरीके का इस्‍तेमाल करते हुए कुकिंग करें तो ये डायबिटीज, इंसुलिन रेसिस्‍टेंस, मोटापा, मेटाबॉलिज्‍म सिड्रम, गट हेल्‍थ और इम्‍यूनिटी बढ़ाने में भी फायदेमंद होता है.

इन चीजों के लिए भी फायदेमंद है ये तरीका
-आलू को पकाकर ठंडा करना,
-चावल को पकाकर ठंडा करना,
-ओट्स को पकाकर ठंडा करना,
-कच्‍चा केला पकाकर ठंडा करना,
-दाल आदि को पकाकर ठंडा करना,
-पास्‍ता को पकाकर ठंडा करना,
-स्‍टार्च वाली सब्जियां जैसे आलू, कॉर्न आदि को पकाकर ठंडा करना.

Tags: Diabetes, Health, Lifestyle

Source link

Kritika Kamra Birthday: को-स्टार करण कुंद्रा को दे बैठीं थीं दिल, अब तक नहीं मिला मिस्टर राइट

VIDEO: नीलकमल सिंह के नए छठ गीत में प्यास से भोजपुरी एक्ट्रेस का हुआ बुरा हाल, बोली- ‘पनिया में लागल पियास’