in

एस्ट्रोजन लेवल घटने से भी हड्डियां होती हैं कमजोर, जानें इससे बचने के तरीके

हाइलाइट्स

व्यायाम की मदद से भी एस्ट्रोजन लेवल को बढ़ाया जा सकता है. एस्‍ट्रोजन लेवल ठीक रखने के लिए वजन नियं‍त्रित रखना जरूरी है.

Tips To Increase Estrogen Level Naturally: एस्ट्रोजन एक हार्मोन है जो शरीर में विभिन्न भूमिकाएं निभाता है. यह महिलाओं में रीप्रोडक्टिव सिस्‍टम को ठीक रखने और इससे जुडे शरीर में बदलाव को लाने का काम करता है. यह हार्मोन हार्ट फंक्‍शन, बोन हेल्‍थ आदि को बेहतर रखने में भी मदद करता है. इसकी कमी से ड्राई स्किन, कमजोर हड्डियां, डिप्रेशन, एंग्जायटी, हॉट फ्लाशेज, योनि में सूखापन, एकाग्रता का अभाव आदि होने लगता है. इसके बढ़ाने के लिए आप कुछ नेचुरल तरीकों का इस्‍तेमाल कर सकते हैं. मेडिकल न्‍यूज टुडे के मुताबिक,  एस्‍ट्रोजन दो तरह के होते हैं- एस्‍ट्रोजन, एस्‍ट्राडियल और एस्‍ट्रीयल. इनमें से आज हम बात करेंगे कि हमारे शरीर में एस्‍ट्रोजन लेवल को बढा़ने के लिए हम क्‍या कर सकते हैं.

एस्‍ट्रोजन बढ़ाने के नेचुरल उपाय

खाने की चीजें  
कुछ खाने की चीजें हैं जिनमें फाइटोएस्‍ट्रोजन पाया जाता है. यह एक प्‍लांट बेस्‍ड पदार्थ है जो एस्‍ट्रोजन बढ़ाने का काम करते हैं. कुछ शोधों में पाया गया है कि शरीर में एस्‍ट्रोजन बढ़ाने के लिए आप इसे डाइट में शामिल कर सकते हैं. इसके लिए आप सोया प्रोटीन, बेरीज, सीड, ग्रेन, फल आदि को शामिल करें.

वर्कआउट
द हेल्‍थ शॉट के मुताबिक, व्यायाम की मदद से भी एस्ट्रोजन लेवल को बढ़ाया जा सकता है. हालांकि व्‍यायाम करते हुए इस बात का ध्‍यान रखें कि बहुत अधिक थकान ना हो. बेहतर होगा कि आप रोज आधे घंटे वॉक करें.

यह भी पढ़ेंः जंक फूड और स्मोकिंग से बढ़ रहा हार्ट अटैक का खतरा? जानें हकीकत

वजन रखें कंट्रोल
एस्‍ट्रोजन के लेवल को ठीक रखने के लिए वजन को नियं‍त्रित रखना जरूरी है. ना ही अधिक वजन होना चाहिए और ना ही कम. इसके लिए आप अपने खानपान और लाइफस्‍टाइल में बदलाव लाएं.

स्‍ट्रेस मैनेजमेंट
तनाव होना स्‍वाभाविक है लेकिन से मैनेज करना हर तरह से आपकी सेहत के लिए जरूरी है. अधिक तनाव की वजह से मेनोपोज फेज जल्दी आ जाता है और जो एस्ट्रोजेन लेवल घटने की वजह से होता है.

बेहतर नींद जरूरी
बेहतर नींद लेंगे तो हार्मोनल बदलाव कम होगा. ऐसे में आप कम से कम सात घंटे की नींद जरूर लें.

यह भी पढ़ेंः क्या नॉनवेज खाने से हो सकते हैं मोटापे का शिकार? यहां जानें हकीकत

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी
अगर आप मेनोपॉज फेज को अभी दूर रखना चाहते हैं तो हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी से एस्ट्रोजन लेवल को बढ़ा सकते हैं. इसके लिए आप डॉक्टर की सलाह लें.

Tags: Female Health, Health, Lifestyle

Source link

Shahrukh Khan B’day: 57 साल के हुए बॉलीवुड के ‘बादशाह’, शाहरुख खान की इन बातों से अंजान होंगे आप

Bhojpuri Song: आ गया नीलकमल सिंह का धमाकेदार गाना, DJ OPERATOR बन भोजपुरी एक्ट्रेस संग मचाया धमाल