in

काम में बिजी हैं तो माइग्रेन अटैक को मैनेज करने के लिए उपयोगी हैं ये टिप्स

हाइलाइट्स

कोशिश करें की तेज लाइट, शोर और स्ट्रॉन्ग स्मेल से दूर रहें.काम के दौरान माइग्रेन से बचने के लिए अपना स्ट्रेस लेवल कंट्रोल करें. माइग्रेन की परेशानी बढ़ने पर काम से ब्रेक लें और आराम होने पर दोबारा काम में जुट जाएं.

Tips to Manage Migraine at Work : माइग्रेन आजकल एक आम समस्या बन गई है, जो हर उम्र और वर्ग के लोगों को प्रभावित कर रही है. इसमें सिर के आधे हिस्से में बहुत तेज़ इंटेंसिटी का दर्द होता है, जो कई बार घंटों तक परेशान कर सकता है. पीरियड्स या हार्मोनल बदलाव जैसी नॉर्मल चीजों के कारण भी ये समस्या हो सकती है. कई बार घर पर कुछ आसान तरीकों से माइग्रेन से निपटना आसान होता है, वहीं अगर काम के दौरान ये परेशान करे तो स्थिति खराब हो सकती है. दर्द के कारण कोई काम नहीं हो पाता और व्यक्ति की प्रोडक्टिविटी कम हो जाती है. अब चाहे वो कोई स्टूडेंट हो, हाउसवाइफ या फिर जॉब करने वाला युवा, काम के दौरान माइग्रेन व्यक्ति के सारे काम अटका सकता है. ऐसे में ज़रूरी हैं कुछ उपाय जो काम के समय माइग्रेन अटैक से निपटने में मदद कर सकते हैं. आइए जानते हैं, कैसे कुछ आसान टिप्स जो इसमें मददगार साबित हो सकते हैं.

काम पर माइग्रेन अटैक को कैसे मैनेज करें 

स्ट्रेस मैनेज करें 
हेल्थ लाइन डॉट कॉम के मुताबिक, स्ट्रेस के कारण माइग्रेन की परेशानी बढ़ सकती है, ऐसे में मन को शांत करें और वर्क लोड का स्ट्रेस अपने दिमाग से हटाने की कोशिश करें. इसके लिए काम के बीच में मेडिटेशन किया जा सकता है, काम को छोटे छोटे टास्क में बांटा जा सकता है, अपने साथियों से मदद ली जा सकती है या फिर अपने डॉक्टर और थैरेपिस्ट से भी इसका समाधान लिया जा सकता है.

दर्द बढ़ाने वाले कारकों को रोकें 
कई बार तेज़ शोर, तेज़ लाइट, या किसी स्ट्रांग स्मैल के कारण भी माइग्रेन हो सकता है. ध्यान दें की जब भी काम के दौरान माइग्रेन हो तो आंखों, कानों या दिमाग को परेशानी देने वाली चीजों को रोक दें या कंट्रोल कर लें. ऐसा करने से दर्द में जल्दी आराम मिल सकता है.

काम से आराम ले लें 
माइग्रेन होने पर भी काम को समय देकर समय की बर्बादी ना करें. बेहतर है की माइग्रेन होने पर काम से थोड़ा ब्रेक लें, खुद को समय दें और दर्द कम होने पर दोबारा काम शुरु कर दें.

दर्द से निपटने की तैयारी रखें 
यदि माइग्रेन की परेशानी अक्सर रहती है तो उससे निपटने के उपचार जैसे दवाई और कोल्ड पैक हमेशा साथ रखें. अपने साथियों को अपनी परेशानी बताए रखें ताकि ज़रूरत पड़ने पर उनकी मदद ली जा सके.

यह भी पढ़ेंः क्या नॉनवेज खाने से हो सकते हैं मोटापे का शिकार? यहां जानें हकीकत

यह भी पढ़ेंः जंक फूड और स्मोकिंग से बढ़ रहा हार्ट अटैक का खतरा? जानें हकीकत

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

बालों में लगाएं प्याज का रस और नारियल तेल, डैंड्रफ से मिलेगा छुटकारा

JNU PG first merit list 2022: डायरेक्ट लिंक से यहां चेक करें लिस्ट, जानें पूरा एडमिशन शेड्यूल | JNU PG merit list 2022 know how to check