in

किडनी डिजीज से कम हो सकती है बच्चे की भूख, जानें बीमारी के अन्य लक्षण

हाइलाइट्स

किडनी डिजीज के दौरान बच्‍चे की भूख पर पड़ता है असर. किडनी डिजीज से बच्‍चा हो सकता है कमजोर और आलसी.किडनी से संबंधित समस्‍या होने पर वजन कम होने लगता है.

Symptoms Of  Kidney disease In Children – बच्‍चों में किडनी की बीमारी के मामले इन दिनों तेजी से बढ़ रहे हैं. किडनी से संबंधित बीमारी तब होती है जब किडनी खराब हो और सही ढंग से खून को उस तरह से फिल्‍टर नहीं कर पाती जिस तरह से उसे करना चाहिए. आमतौर पर किडनी से जुड़ी समस्‍या को अल्‍कोहल के सेवन से जोड़ा जाता है लेकिन बच्‍चों में इसके अन्‍य कारण जिम्‍मेदार हो सकते हैं. क्रोनिक और लंबे समय तक चलने वाली समस्‍या लाइफ को प्रभावित कर सकती है. बच्‍चों में किडनी की बीमारी के घातक परिणाम हो सकते हैं. बच्चों में एक्‍यूट किडनी डिजीज अचानक हो सकती है,  वहीं क्रोनिक किडनी डिजीज समय के साथ डेवलप होते हैं. किडनी की समस्‍या बढ़ जाने पर डायलिसिस और ट्रांसप्‍लांट तक कराना पड़ सकता है. पेरेंट्स को बच्‍चे के असामान्‍य संकेतों जैसे- बार-बार यूरिन आना, यू‍रिन में ब्‍लड, कम हीमोग्‍लोबिन, भूख न लगना और पेट में दर्द पर ध्‍यान देना चाहिए. इन संकेतों के माध्‍यम से किडनी की समस्‍या को पहचाना जा सकता है.

किडनी की समस्‍या को ऐसे करें मैनेज
बच्‍चों में किडनी से संबंधित समस्‍या होने पर प्रॉपर मैनेजमेंट की आवश्‍यकता होती है. ओनली माई हेल्‍थ के अनुसार यदि बच्‍चे को किडनी डिजीज है तो उसे प्रॉपर ट्रीटमेंट और देखभाल से बढ़ने से रोका जा सकता है. इसे मैनेज करने के लिए सेप्टिक शॉक का इलाज करना, यूटीआई को रोकने का प्रयास करना, नेफ्रोटि‍क सिंड्रोम के लिए स्‍टेरॉइड लेना और अन्‍य समस्‍या का समय पर निदान करना शामिल है. किडनी डिजीज का बढ़ना बच्‍चे की हेल्‍थ के लिए खतरनाक हो सकता है.

क्रोनिक किडनी डिजीज के लक्षण
– भूख न लगना
– सिरदर्द
– उल्‍टी
– हाई ब्लड प्रेशर
– एकाग्रता में कमी
– मोटर स्किल में परेशानी
– बात समझने और बोलने में परेशानी
– थकान
– चक्‍कर
– आलस

यह भी पढ़ें- गाजर की पत्तियां भी हैं सेहत के लिए वरदान, खाने में करें शामिल

बच्‍चों में एक्‍यूट रीनल फेलियर के कारण
– किडनी में ब्‍लड फ्लो कम होना: यह सर्जरी, ब्‍लड की कमी या सेप्टिक शॉक के कारण हो सकता है.
– दवाओं के सेवन से किडनी का डैमेज होना
– किडनी फंक्‍शन डिस्‍टर्ब होना
– हेमोलिटिक यूरीमिक सिंड्रोम जिससे किडनी के अंदर की नसें सिकुड़ जाती हैं.

ये भी पढ़ें: सलाद में रोज शामिल करें गाजर, सेहत को मिलेंगे कई सारे फायदे

बच्‍चों में क्रोनिक रीनल फेलियर के कारण
– बच्‍चों में यूटीआई की समस्‍या
– जन्‍म से किडनी में समस्‍या
– यूरिनरी ट्रैक्‍ट में ब्‍लॉकेज
– नेफ्रोटिक सिंड्रोम

Tags: Health, Kidney disease, Lifestyle

Source link

एक अकेली महिला को प्रताड़ित किया जा रहा है… कोई मदद नहीं, कोई न्याय नहीं: तनुश्री दत्ता का पोस्ट वायरल

Exclusive! ‘ऊंचाई’ से बदली बॉलीवुड कोरियोग्राफर शबीना खान की जिंदगी, फिल्म को बताया करियर के लिए टर्निंग प्वाइंट