in

क्या आपने अपने बच्चों को फर्स्ट एड बॉक्स के बारे में बताई हैं ये बातें? अगर नहीं तो आज ही बताएं

हाइलाइट्स

जल जाने पर फर्स्ट एड बॉक्स का इस्तेमाल करने के लिए बच्चों को बताएं.फर्स्ट एड बॉक्स के बारे में बताते हुए बच्चों को कट लगने का उपचार करना सिखाएं.

Parenting Tips: आमतौर पर बच्चों को खास देखभाल की जरूरत होती है. हालांकि, बच्चों की स्पेशल केयर करने के बावजूद माता-पिता हमेशा बच्चों के साथ नहीं रह पाते हैं. वहीं अपने चंचल स्वभाव के चलते बच्चों को छोटी-मोटी चोटें अक्सर लगती रहती हैं. ऐसे में बच्चों को फर्स्ट एड बॉक्स (First aid box) से रूबरू करवाना काफी जरूरी हो जाता है. इसलिए बच्चों की सेफ्टी के लिए उन्हें फर्स्ट एड बॉक्स से जुड़ी कुछ अहम बातें समझाना न भूलें.

दरअसल, कुछ पैरेंट्स अक्सर बच्चों को नासमझ जानकर फर्स्ट एड बॉक्स से दूर रखने की कोशिश करते हैं. हालांकि, बच्चों को बचपन में ही फर्स्ट एड यानी प्राथमिक उपचार की ट्रेनिंग देना जरूरी होता है. इससे न सिर्फ आपकी गैर मौजूदगी में चोट लगने पर बच्चे फर्स्ट एड बॉक्स की मदद लेने में सक्षम होते हैं बल्कि किसी मेडिकल इमरजेंसी में दूसरों की भी सहायता कर सकते हैं. तो आइए जानते हैं फर्स्ट एड बॉक्स के बारे में बच्चों को बताने वाली कुछ जरूरी बातों के बारे में.

फर्स्ट एड बॉक्स की अहमियत बताएं

ज्यादातर बच्चे फर्स्ट एड बॉक्स को महज दवाइयों का डिब्बा ही मानते हैं. इसलिए बच्चों को फर्स्ट एड बॉक्स के बारे में विस्तार से समझाएं और उन्हें बताएं कि फर्स्ट एड बॉक्स की मदद से वो मेडिकल इमरजेंसी में न सिर्फ दूसरों को दर्द से राहत दिला सकते हैं बल्कि उनकी जान भी बचा सकते हैं.

ये भी पढ़ें: First Aid Box: क्या आप फर्स्ट एड बॉक्स में रखते हैं ये चीजें? चेक कर लीजिये

फर्स्ट एड बॉक्स का उपयोग सिखाएं

बच्चों को फर्स्ट एड बॉक्स में रखे थर्मामीटर, बैंडेज, एंटीसेप्टिक क्रीम, रुई, कैंची और दवाईयों से अवगत कराएं. साथ ही बच्चों को इन चीजों का सही इस्तेमाल करना भी सिखाएं. जिससे बच्चे आवश्यकता पड़ने पर फर्स्ट एड बॉक्स का सही तरह से इस्तेमाल कर सकेंगे.

चोट पर मरहम लगाना सिखाएं

फर्स्ट एड बॉक्स के बारे में बताते हुए बच्चों को ब्लीडिंग होने, चोट लगने और कट लगने का उपचार करना सिखाएं. बच्चों को बताएं कि किसी की एक्सीडेंटल चोट का इलाज करने के लिए सबसे पहले चोटिल व्यक्ति को पानी पिलाकर शांत करें. फिर क्लींजिंग लोशन से घाव धोकर कॉटन की मदद से एंटीबायोटिक क्रीम लगाएं और घाव गंभीर होने पर बच्चों को जल्दी से जल्दी डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह दें.

ये भी पढ़ें: किचन में काम करते हुए जल जाए स्किन, तो न करें ये गलतियां

जलने पर ऐसे दें राहत

जल जाने पर फर्स्ट एड बॉक्स का इस्तेमाल करने के लिए बच्चों को बताएं कि जलन से राहत पाने के लिए जली हुई स्किन पर बर्फ लगाएं. फिर ठंडी क्रीम या लोशन लगाकर गीला तौलिया बांध दें. इससे जलन कम होने लगती है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health tips, Lifestyle, Parenting

Source link

तमन्ना भाटिया को पैपराजी ने लग्जरी बैग के साथ किया स्पॉट, कीमत जानकर हो जाएंगे हैरान

Snow Records का नया गाना Special Class सुना आपने, दिव्या उपाध्याय-पंकज जोशी की जोड़ी मचा रही है धमाल