in

क्या डायबिटीज में मूली खानी चाहिए? एक्सपर्ट ने बताए मूली खाने के 4 बड़े फायदे

हाइलाइट्स

मूली में एंटी-डायबिटिक प्रॉपर्टीज होती हैं.मूली रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करती है.

Radish Benefits in Diabetes: डायबिटीज होने पर खानपान का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है. अक्सर डायबिटीज के मरीज जानकारी ना होने के कारण उन चीजों का सेवन कर लेते हैं, जो ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा सकती हैं. ऐसे में जिन लोगों को डायबिटीज की बीमारी है, उन्हें अपने डाइट का खास ध्यान देना बेहद आवश्यक हो जाता है. बार-बार शुगर लेवल बढ़ना कई अन्य समस्याओं को जन्म दे सकता है. जिन्हें डायबिटीज है, उन्हें हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से परहेज करना चाहिए. ऐसा इसलिए, क्योंकि ये खाद्य पदार्थ ब्लड शुगर लेवल पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं.

ऐसे में आप डायबिटीज में उन चीज़ों का सेवन करें, जो शरीर के रक्त शर्करा को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं. यदि आप चाहते हैं कि आपका शुगर लेवल कंट्रोल में रहे तो आप आज से ही मूली खाना शुरू कर दें. ठंड के मौसम में मूली खूब मिलती भी है और इसे सलाद, सूप, अचार, जूस के रूप में आप सेवन कर सकते हैं. डायबिटीज रोगियों के साथ-साथ मूली किस तरह से है फायदेमंद जानें यहां.

इसे भी पढ़ें: जानें किन लोगों को नहीं खाना चाहिए मूली, सेहत को हो सकते हैं नुकसान

मूली में मौजूद पोषक तत्व

मूली बेहद ही हेल्दी रूट वेजिटेबल में शामिल है. इसमें मुख्य रूप से कैल्शियम, मैग्नीशियम, फोलेट, पोटैशियम, नियासिन, कई तरह के विटामिंस, राइबोफ्लेविन आदि मौजूद होते हैं. खासकर, मूली विटामिन सी का मुख्य स्रोत है. विटामिन सी एक एंटीऑक्सीडेंट है, जो फ्री रैडिकल्स से शरीर को बचाता है. उम्र बढ़ने और अनहेल्दी लाइफस्टाइल के कारण हुए कोशिकाओं की क्षति को रोकता है.

मूली के सेवन के फायदे

न्यूट्रिशनिस्ट लवनीत बत्रा ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर मूली के कई फायदों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की है. आइए जानते हैं डायबिटीज को कंट्रोल करने के साथ ही मूली के अन्य सेहत लाभ क्या-क्या हैं.

डायबिटीज करे कंट्रोल: मूली में एंटी-डायबिटिक प्रॉपर्टीज होती हैं, जो इम्यून प्रतिक्रिया को ट्रिगर करती हैं, ग्लूकोज को बढ़ाती हैं और ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करती हैं. एडिपोनेक्टिन एक ऐसा हार्मोन है, जो रक्त शर्करा के स्तर को रेगुलेट करता है. मूली में बायोएक्टिव कम्पाउंड भी होते हैं, जो एडिपोनेक्टिन को नियंत्रित करते हैं. ग्लूकोज होमियोस्टेसिस को भी नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

कैंसर से बचाए: इसमें कुछ एंटी-कैंसर प्रॉपर्टीज होती हैं, जो कई तरह के कैंसर के होने के जोखिम को कम कर सकती है. मूली एक क्रूसिफेरस सब्जी है. एक अध्ययन के अनुसार, क्रूसिफेरस सब्जियों में कुछ ऐसे यौगिक होते हैं, जो पानी के साथ मिलाने पर आइसोथियोसाइनेट्स में टूट जाते हैं. आइसोथियोसाइनेट्स कैंसर पैदा करने वाले कारकों और ट्यूमर के विकास को रोकने में मदद करते हैं.

पाचन तंत्र को रखे दुरुस्त: मूली में घुलनशील और अघुलनशील फाइबर होते हैं, जो जीआई ट्रैक्ट के लिए बहुत अच्छा होता है. फाइबर आपकी आंतों के जरिए अपशिष्ट पदार्थ को स्थानांतरित करने में मदद करती है. इससे मल त्याग करने में कोई परेशानी नहीं होती है. कब्ज की समस्या से भी बचाव होता है. इस तरह से पेट की सेहत दुरुस्त बनी रहती है.

इसे भी पढ़ें: Health Tips: क्या डायबिटीज के पेशेंट खा सकते हैं मौसमी फल? जानें एक्सपर्ट की राय

हाई ब्लड प्रेशर करे नॉर्मल: मूली में पोटैशियम काफी होता है. यह रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है. मूली खाने से हार्ट अपना कार्य ठीक तरह से करता है. इसमें एंथोसायनिन नामक कम्पाउंड होते हैं, जो ब्लड सर्कुलेशन को सुधारते हैं और ब्लड प्रेशर को कम करते हैं.

Tags: Health, Lifestyle

Source link

13 साल की उम्र में जया बच्चन को मिली थी अपनी पहली सैलरी, एक्ट्रेस को नहीं पता कितना मिला था पैसा?

Throwback: नंदिता दास ने जब निभाया था रघुबीर यादव की पत्नी का किरदार, असल जिंदगी में आ गया था ‘बवंडर’