in

क्या यूरिक एसिड बढ़ना भी फायदेमंद? इस सवाल का जवाब जानकर नहीं कर पाएंगे यकीन

हाइलाइट्स

यूरिक एसिड बढ़ने से अल्जाइमर और ब्रेन से संबंधित कुछ बीमारियों का खतरा कम हो सकता है.यूरिक एसिड में कुछ ऐसे एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो ब्रेन से जुड़ी बीमारियों से बचाव कर सकते हैं.

Gout May Decrease Risk Of Alzheimer: हमारे शरीर में जब यूरिक एसिड की मात्रा सामान्य से ज्यादा हो जाती है, तब यह जॉइंट्स में जमा हो जाता है. इसकी वजह से गाउट (Gout) की परेशानी हो जाती है. गाउट आर्थराइटिस का एक टाइप है, जिसकी वजह से हाथ और पैरों के छोटे जॉइंट्स में बहुत तेज दर्द होता है. गाउट की समस्या से बचने के लिए डॉक्टर अक्सर यूरिक एसिड लेवल कंट्रोल करने की सलाह देते हैं. यूरिक एसिड दवाइयों के अलावा अच्छे खान-पान, बेहतर लाइफस्टाइल, फिजिकल एक्टिविटी से काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है. वैसे तो यूरिक एसिड बढ़ना हमेशा खराब माना जाता है, लेकिन कई बार यह ब्रेन से जुड़ी कुछ बीमारियों से बचाव भी कर सकता है. इस बारे में आपको कुछ तथ्य जानने की जरूरत है.

यह भी पढ़ेंः Covid-19 संक्रमण से बढ़ सकता है हाई कोलेस्ट्रॉल का खतरा? 

गाउट से कम होता है अल्जाइमर का खतरा?
साल 2015 में अमेरिका के मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल और बोस्टन यूनिवर्सिटी ने एक रिसर्च की थी. इसमें यूरिक एसिड और ब्रेन से जुड़ी बीमारियों के संबंध का पता लगाने की कोशिश की गई थी. हेल्थलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक इस स्टडी में कई हैरान करने वाली बातें सामने आईं. शोधकर्ताओं ने बताया कि यूरिक एसिड बढ़ने पर गाउट की समस्या हो जाती है, लेकिन इससे अल्जाइमर, पर्किंसन और अन्य न्यूरोडीजेनरेटिव डिजीज का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है. यूरिक एसिड में कुछ ऐसे एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो ब्रेन से जुड़ी बीमारियों से बचाव करते हैं. जब यूरिक एसिड का लेवल हाई हो जाता है, तब इन बीमारियों का खतरा काफी कम हो जाता है.

हाई यूरिक एसिड भी खतरनाक
यूरिक एसिड लेवल बढ़ने से भले ही अल्जाइमर और ब्रेन से संबंधित कुछ बीमारियों का खतरा कम होता है, लेकिन यह हेल्थ के लिए फायदेमंद नहीं माना जा सकता. यूरिक एसिड हार्ट और किडनी से सीधे तौर पर जुड़ा होता है. यूरिक एसिड बढ़ने से कई ब्लड और मेटाबॉलिक डिसऑर्डर हो जाते हैं. इसकी वजह से जॉइंट्स में गाउट, स्ट्रोक, हार्ट डिजीज, किडनी स्टोन और किडनी फेलियर तक का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए यूरिक एसिड का लेवल हमेशा मेंटेन रखने की कोशिश करनी चाहिए. अल्जाइमर और ब्रेन से जुड़ी अन्य बीमारियों से बचने के लिए मेंटल हेल्थ का ख्याल रखने की जरूरत होती है.

यह भी पढ़ेंः पशुओं पर कहर बरपा रहा लंपी वायरस, क्या इंसानों को बना सकता है शिकार?

Tags: Disease, Health, Lifestyle, Trending news

Source link

Sanjay Kapoor Love Story: तब्बू-सुष्मिता से दूर हुए थे संजय कपूर, फिर महीप से इस कारण जुड़े थे दिल के तार

दीपिका पादुकोण से कियारा आडवाणी तक, बॉलीवुड के ये बड़े सेलेब्स साउथ की फिल्मों में आएंगे नजर