in

गैस और ब्‍लोटिंग की समस्‍या को दूर करने के लिए अपनाएं ये खास योगा पोज, कुछ ही दिनों में दिखने लगेगा फर्क

हाइलाइट्स

योगा से डाइजेस्टिव सिस्‍टम को सुधारा जा सकता है. पवनमुक्‍तासन से कम हो सकती है गैस की समस्‍या. स्‍पाइनल ट्विस्‍ट से पेट को टोन किया जा सकता है.

Special Yoga Pose For Gas And Bloating-  खाने के बाद गैस, पेट फूलना और पेट में दर्द होना सामान्‍य है लेकिन जब से गैस एसिडिटी में तब्दील हो जाती है तो परेशानी महसूस होने लगती है. पेट में गैस बनने का मुख्‍य कारण अधिक खाना खाने या खाने के बीच में लंबा गैप हो सकता है. कई बार जब इंटेस्‍टाइन के बैक्‍टीरिया खाने को ठीक प्रकार के ब्रेक नहीं कर पाते तो भी गैस की समस्‍या हो जाती है.

हालांकि गैस होने पर वॉक या घरेलू नुस्‍खों से आराम मिल सकता है लेकिन यदि इस समस्‍या से हमेशा के लिए छुटकारा पाना चाहते हैं तो योगासन का सहारा ले सकते हैं. योगा करने से गैस के साथ कई डाइजेस्टिव प्रॉब्‍लम्‍स को भी दूर किया जा सकता है. चलिए जानते हैं गैस की समस्‍या होने पर कौन से योगा पोज फायदा पहुंचा सकते हैं.

अपानासन
अपानासन ब्‍लोटिंग और गैस के दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकती है. हेल्‍थ डॉट कॉम के अनुसार अपानासन को विंड रिलीविंग पोज के नाम से भी जाना जाता है. इस योग को लेटकर किया जाता है. इसे करने के लिए जमीन पर सीधे लेट जाएं और फिर धीरे-धीरे दोनों पैरों के घुटने छाती से सटाएं. दोनों हाथों से पैरों को पकड़ लें और पांच से दस सैकेंड तक सांसों को रोक कर रखें. फिर घुटनों को छोड़ दें और सीधा कर लें. इस प्रक्रिया को 4-5 बाद दोहराया जा सकता है.

स्‍पाइनल ट्विस्‍ट
पेट को शांत और टोन करने के लिए स्‍पाइनल ट्विस्‍ट पोज का इस्‍तेमाल किया जा सकता है. इस आसन को करने के लिए सबसे पहले सीधे लेट जाएं और दोनों पैरों के घुटने आपस में जोड़ते हुए उन्‍हें बाईं ओर ले जाएं फिर दाईं ओर ले जाएं. इस दौरान सांस नॉर्मल चलती रहे. इस प्रक्रिया को कम से कम 8-10 बार करना चाहिए. इसके 3-4 सेट लगाए जा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें– क्या कोलेस्ट्रॉल सच में शरीर के लिए दुश्मन है? इसके फायदे जानकर हैरान हो जाएंगे आप

सेतुबंध आसन
सेतुबंध आसन करने से ब्‍लड फ्लो सुधरता है साथ ही गैस की समस्‍या से भी छुटकारा मिल सकता है. इसे करने कि लिए फर्श पर सीधे लेट जाएं और घुटनों को मोड़ लें. फिर दोनों हाथों को सिर के पास रखें और पीठ व पेट को ऊपर उठाने का प्रयास करें. सारा प्रेशर हाथों और पैरों में रखें. इसे करते वक्‍त पांच सांसें काउंट करें और फिर नॉर्मल पोजिशन में लौट आएं. इससे ब्‍लोटिंग की समस्‍या से निजात मिल सकता है.

इसे भी पढ़ें- बार-बार चक्कर और पसीना आना भी हो सकता है प्री डायबिटीज के संकेत, ऐसे बचाएं खुद को

पवनमुक्‍तासन
पवनमुक्‍तासन को विशेषतौर पर गैस की समस्‍या को कम करने के लिए किया जाता है. इससे पेट का मजबूती मिलती है और रीढ़ की हड्डी को आराम मिल सकता है. इसके करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं. घुटनों को एक साथ ऊपर उठाएं और हाथों से पकड़ लें. फिर बाएं पैर को छोड़ दें और 30 सेकंड तक इसी पोजिशन में रहें. फिर दूसरे पैर से इस प्रक्रिया को दोहराएं. इस प्रक्रिया को दोनों पैरों से 3-3 बार करें.

Tags: Health, Lifestyle, Yoga

Source link

बोनी कपूर ने बताया रीमेक फिल्मों के फ्लॉप होने का गणित, बोले- ‘बॉलीवुड में लोग टाइटल भी कॉपी करते हैं’

National Housing Bank में निकली भर्ती, ग्रेजुएट करें आवेदन | national housing bank recruitment 2022, government jobs