in

जब नौकरी पर संकट आ जाएं तो घबराएं नहीं, इस तरह करें क्वाइट फायरिंग को हैंडल

हाइलाइट्स

क्वाइट फायरिंग का मतलब है कि नियोक्ता आपको इस्तीफा देने के लिए मजबूर कर रहा होता हैऑफिस के प्रोटोकॉल को समझना आपके संदेश को आगे पहुंचाने में मदद कर सकता है

tips to prevent quiet firing: क्वाइट फायरिंग शब्द का पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया पर खूब इस्तेमाल किया जा रहा है. क्वाइट फायरिंग का सीधा सा मतलब है कि नियोक्ता जान बूझकर आपको आपकी योग्यता की कमतरी का एहसास कराता है या आपके कामों को कोई तरजीह नहीं देता. अंततः इसमें नियोक्ता आपको इस्तीफा देने के लिए मजबूर कर रहा होता है. निजी क्षेत्रों में काम करने वाले अधिकांश एंप्लॉय के जीवन में ऐसा कभी न कभी जरूर आता है. ईमानदार फीडबैक मांगने के बजाय, बॉस कर्मचारी को इस हद तक हतोत्साहित करता है कि वह बुझा-बुझा सा महसूस करने लगता है और अंततः नौकरी छोड़ देता है. अगर आपको भी लगता है कि आपका बॉस आपको क्वाइट फायर करने की कोशिश कर रहा है, तो यहां 5 टिप्स दिए गए हैं कि इनसे आपको इस स्थिति से निपटने से फायदा मिलेगा.

ये भी पढ़ें-सोडियम की कमी से भी हो सकती है कई बीमारियां, जानिए इसके लक्षण और उपचार

इस तरह करें हैंडल

सहज और खुली बातचीत-इस स्थिति का सामना करने के लिए सबसे पहला तरीका यह है कि हमेशा संघर्ष को सीधे हल करना चाहिए. अपने बॉस से बात करें और उन्हें बताएं कि आप फीड बैक देने के लिए तैयार हैं. यदि आपका बॉस इससे नजरअंदाज करें तो अपनी बात पहुंचाने के लिए दफ्तर में कई और चैनल हो सकते हैं. इसके लिए तर्कसंगत बनें और सुनने के लिए खुले दिल से तैयार रहें. इसके लिए बहस करना जरूरी नहीं है.

ऊपर तक जाएं-अगर बॉस के साथ बातचीत काम नहीं कर रहा तो उससे ऊपर जाएं. इस बात की भी आशंका हो सकती है और आपका बॉस खुद इस स्थिति का सामना कर रहे हों. यही कारण है कि आपका बॉस आपके फीडबैक पर उस तरह से ध्यान नहीं दे रहे होते हैं जिसका आप हकदार हैं. समस्या को उनके उच्च अधिकारियों के संज्ञान में लाने से आपको वे उत्तर मिल सकते हैं जिनकी आपको आवश्यकता है.

आवाज उठाएं- यदि आपको लगता है कि आपकी जायज बात में प्रबंधन की दिलचस्पी नहीं है तो कर्मचारी संसाधन समूहों या यूनियनों में इसे उठा सकते हैं. इससे आपकी बात को सही अधिकारियों तक पहुंचाने में मदद मिल सकती है. यह आपको शोषण से बचने के लिए एक कर्मचारी के रूप में अपने अधिकारों को समझने में भी मदद कर सकता है.

प्रोटकॉल-जितनी जल्दी हो सके आपको अपनी कंपनी के प्रोटकॉल को समझ लेनी चाहिए. अगर आपको लगता है कि आपके साथ उचित व्यवहार नहीं किया जा रहा है, तो इसे आघात के तौर पर नहीं देखना चाहिए. जब कोई बातचीत होती है, तो आपके दिमाग में नए प्रोटोकॉल आपके संदेश को आगे पहुंचाने में मदद कर सकता है.

5. संबंध बहाल करें-यदि आप एक दूरस्थ या हाइब्रिड कर्मचारी हैं, तो अपने नियोक्ता और सहकर्मियों के साथ संबंध दोस्ताना संबंध स्थापित करना कठिन हो सकता है. अगर अपने व्यवहार से अपने पास के कुछ लोगों से संबंध अच्छा बना सके जो आपसे प्रभावित हैं, तो यह कदम आपकी यात्रा को आसान बना सकते हैं. न केवल अपने नियोक्ता बल्कि अपने सहकर्मियों के साथ भी हमेशा तालमेल बनाने की कोशिश करें.

Tags: Lifestyle, Mental health, Relationship, Trending news, Workplace

Source link

Qubool Hai फेम निशी सिंह का 50 की उम्र में निधन, बर्थडे के दो दिन बाद दुनिया को कहा अलविदा

सलमान खान की ‘Tiger 3’ को डायरेक्ट करने से अली अब्बास जफर ने किया था मना, निर्देशक ने अब बताई वजह