in

जयंती विशेष: पढ़ें, भारतेंदु हरिश्चंद्र की दुर्लभ रचना- ‘दशरथ विलाप’

हाइलाइट्स

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र को हिंदी साहित्य के पितामह कहा जाता है. भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने हास्य कविता ‘अंधेर नगरी चौपट राजा’ लिखी थी.

Bharatendu Harishchandra Jayanti Special: हिंदी साहित्य को पढ़ने और समझने वाला शायद ही कोई ऐसी व्यक्ति होगा जिसने भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की रचनाएं न पढ़ी हों. आपको बता दें कि भारतेन्दु हरिश्चन्द्र को आधुनिक हिंदी साहित्य के पितामह माना जाता है. आज उनकी जयंती है. साल 1850 में आज ही के दिन यानी 9 सितंबर को उत्तर प्रदेश के काशी में गोपाल चंद्र के घर उनका जन्म हुआ था. उनके पिता भी कवि थे. जानकारी के मुताबिक कवि भारतेन्दु ग़ज़लें कहते समय ‘रसा’ उपनाम का प्रयोग करते थे.

उन्होंने अपने जीवनकाल में भक्तसर्वस्व (1870), प्रेममालिका (1871), प्रेम-माधुरी (1875), उत्तरार्द्ध-भक्तमाल (1876-77), प्रेम-प्रलाप (1877), राग-संग्रह (1880) और कृष्ण-चरित्र (1883) समेत कई प्रमुख कृतियां रचीं. उन्होंने मशहूर ‘अंधेर नगरी चौपट राजा’ हास्य-व्यंग्य की काव्य रचना भी की. उन्होंने लगभग सभी रसों में कविताएं लिखी थीं. आज पढ़ें उनकी सबसे दुर्लभ रचना- दशरथ विलाप

दशरथ विलाप-भारतेन्दु हरिश्चन्द्र 

कहाँ हौ ऐ हमारे राम प्यारे ।
किधर तुम छोड़कर मुझको सिधारे ।।

बुढ़ापे में ये दु:ख भी देखना था।
इसी के देखने को मैं बचा था ।।

छिपाई है कहाँ सुन्दर वो मूरत ।
दिखा दो साँवली-सी मुझको सूरत ।।

छिपे हो कौन-से परदे में बेटा ।
निकल आवो कि अब मरता हु बुड्ढा ।।

यह भी पढ़ें- सूरदास की रचनाएं: अवगुण चित ना धरो, ​तुम मेरी राखो लाज हरि, अब की बेर उबारो

बुढ़ापे पर दया जो मेरे करते ।
तो बन की ओर क्यों तुम पर धरते ।।

किधर वह बन है जिसमें राम प्यारा ।
अजुध्या छोड़कर सूना सिधारा ।।

गई संग में जनक की जो लली है
इसी में मुझको और बेकली है ।।

कहेंगे क्या जनक यह हाल सुनकर ।
कहाँ सीता कहाँ वह बन भयंकर ।।

गया लछमन भी उसके साथ-ही-साथ ।
तड़पता रह गया मैं मलते ही हाथ ।।

दशरथ विलाप-भारतेन्दु हरिश्चन्द्र

मेरी आँखों की पुतली कहाँ है ।
बुढ़ापे की मेरी लकड़ी कहाँ है ।।

कहाँ ढूँढ़ौं मुझे कोई बता दो ।
मेरे बच्चो को बस मुझसे मिला दो ।।

लगी है आग छाती में हमारे।
बुझाओ कोई उनका हाल कह के ।।

मुझे सूना दिखाता है ज़माना ।
कहीं भी अब नहीं मेरा ठिकाना ।।

अँधेरा हो गया घर हाय मेरा ।
हुआ क्या मेरे हाथों का खिलौना ।।

मेरा धन लूटकर के कौन भागा ।
भरे घर को मेरे किसने उजाड़ा ।।

यह भी पढ़ें- हरिशंकर परसाई का व्यंग्य: यह बीमारी-प्रेमी देश है, इसको खुजली बहुत होती है

हमारा बोलता तोता कहाँ है ।
अरे वह राम-सा बेटा कहाँ है ।।

कमर टूटी, न बस अब उठ सकेंगे ।
अरे बिन राम के रो-रो मरेंगे ।।

कोई कुछ हाल तो आकर के कहता ।
है किस बन में मेरा प्यारा कलेजा ।।

हवा और धूप में कुम्हका के थककर ।
कहीं साये में बैठे होंगे रघुवर ।।

जो डरती देखकर मट्टी का चीता ।
वो वन-वन फिर रही है आज सीता ।।

कभी उतरी न सेजों से जमीं पर ।
वो फिरती है पियोदे आज दर-दर ।।

न निकली जान अब तक बेहया हूँ ।
भला मैं राम-बिन क्यों जी रहा हूँ ।।

मेरा है वज्र का लोगो कलेजा ।
कि इस दु:ख पर नहीं अब भी य फटता ।।

मेरे जीने का दिन बस हाय बीता ।
कहाँ हैं राम लछमन और सीता ।।

कहीं मुखड़ा तो दिखला जायँ प्यारे ।
न रह जाये हविस जी में हमारे ।।

कहाँ हो राम मेरे राम-ए-राम ।
मेरे प्यारे मेरे बच्चे मेरे श्याम ।।

मेरे जीवन मेरे सरबस मेरे प्रान ।
हुए क्या हाय मेरे राम भगवान ।।

कहाँ हो राम हा प्रानों के प्यारे ।
यह कह दशरथ जी सुरपुर सिधारे ।।(साभार-कविता कोश)

Tags: Birth anniversary, Hindi Literature, Lifestyle, Literature

Source link

Guess Celebes: अपनी मां के साथ इस बच्चे को पहचान सकते हैं आप, अब इनका बेटा भी है बॉलीवुड ‘हीरो’

Brahmastra Twitter Review: बरसों की कड़ी मेहनत के बाद बनी ‘ब्रह्मास्त्र’, जानिए दर्शकों का रिएक्शन