in

डिप्रेशन से जूझ रहे लोगों की इन 5 तरीकों से करें मदद, नहीं रहेगा सुसाइड का खतरा

हाइलाइट्स

रोजमर्रा के छोटे-छोटे कामों में उस व्यक्ति की मदद करना जरूरी होता है.अवसादग्रस्त व्यक्ति को आसानी से हैंडल करने के लिए उनसे बातचीत करें.

World Suicide Prevention Day 2022: जब कोई इंसान अवसादग्रस्त यानी डिप्रेशन में होता है तो यह उसकी लाइफ का सबसे बुरा और मुश्किल दौर होता है. डिप्रेशन की वजह से न जाने कितने लोग  जिंदगी से मुंह मोड़कर मौत को गले लगा लेते हैं. जब किसी व्यक्ति को डिप्रेशन होता है तो उसका दुख सिर्फ वही महसूस कर सकता है. इस दर्द को हम और आप सिर्फ देखकर महसूस नहीं कर सकते. असल में अवसादग्रस्त व्यक्ति को लोगों की मदद की जरूरत होती है. अगर आप समय रहे अवसादग्रस्त इंसान की मदद करने को आगे आते हैं तो उन्हें सुसाइड करने के ख्याल से दूर रख सकते हैं. आप डिप्रेशन से जूझ रहे लोगों को कैसे सपोर्ट कर सकते हैं, इस बारे में कुछ जरूरी बातें जान लीजिए.

शुरू करें बातचीत
हेल्थलाइन के मुताबिक अवसादग्रस्त व्यक्ति से जितना हो सके, उतनी बात करें. वो आपको अपनी चिंता भी साझा करेगा. उनके दिमाग में क्या चल रहा है, आप उनसे इस बारे में बात करें. वो आपसे बात करेंगे तो काफी हद तक खुद को हल्का महसूस करेंगे.

उन्हें अकेला न महसूस होने दें
हो सकता है कि आपका कोई दोस्त या परिवार को कोई सदस्य डिप्रेशन से जूझ रहा हो. ऐसे में आप उसे महसूस करवाएं कि आप उनके साथ हैं. डिप्रेशन के दौरान अकेलेपन की भावना खतरनाक हो सकती है.

थेरेपी के लिए करें प्रोत्साहित
अगर आपकी जान-पहचान वाला शख्स अवसादग्रस्त है तो हो सकता है कि वह डॉक्टर को दिखाने और किसी तरह की थेरेपी लेने के लिए घर से न निकले. इस स्थिति में आप उसका साथ दें. उन्हें परमानेंट थेरेपी लेने के लिए प्रोत्साहित करें.

यह भी पढ़ें: जिम शुरू करने से पहले इन बातों का रखें ध्यान, वरना हो सकते हैं परेशान

खास ख्याल रखें
अगर आप अवसादग्रस्त इंसान का ख्याल रखते हैं, तो वो भी आपको अपनी परेशानी और चिंता शेयर करने लगता है. आप हर वक्त उनकी मदद के लिए मौजूद रहें. उनकी सुनें ताकि उनके मन में सुसाइड जैसा कोई घातक विचार न आए.

रोजमर्रा के कामों में करें मदद
डिप्रेशन के साथ जीना हर इंसान के लिए बेहद मुश्किल भरा होता है. कपड़े धोने हों या खरीददारी करनी हो, आप रोजमर्रा के छोटे-छोटे कामों में उस व्यक्ति की मदद करें, ताकि वह खुद को अकेला महसूस ना कर सके और बुरे ख्याल उसके दिमाग में न पनप सकें. आपकी छोटी सी कोशिश अवसादग्रस्त व्यक्ति को सुसाइड जैसे खतरों से बचा सकती है.

यह भी पढ़ें: क्या डायबिटीज के पेशेंट खा सकते हैं मौसमी फल? जानें एक्सपर्ट की राय

Tags: Health, Lifestyle, Suicide, World Suicide Prevention day

Source link

Video: भोजपुरी देसी स्टार समर सिंह की दुल्हन बन जमकर नाचीं आम्रपाली दुबे, एक्टर से मांगी ‘सोना के सिकड़िया’!

The Kapil Sharma Show: कृष्णा अभिषेक के बाद चंदन प्रभाकर ने छोड़ा शो भारती भी नहीं आएंगी नजर