in

डिलीवरी के बाद बढ़ जाती है कब्ज की समस्या ! जानें इससे बचने के उपाय

हाइलाइट्स

कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए डाइट में फाइबर शामिल करें. दिन में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीने का नियम बनाएं. अच्छे डाइजेशन के लिए खाना खाने के बाद आधा घंटा जरूर टहलें.

Natural Remedies for Postpartum Constipation: महिलाओं में कब्ज की समस्या ज्यादातर प्रेगनेंसी या डिलीवरी के बाद शुरू होती है. इस समस्या को महिलाओं में डिलीवरी के बाद एक आम समस्या माना जाता है. डिलीवरी के बाद होने वाली कब्ज की समस्या आमतौर पर गंभीर तो नहीं होती है, लेकिन कई बार यह अन्य बीमारियों की तरफ इशारा करती है. दरअसल इस बीच प्रोजेस्‍टेरोन और एस्‍ट्रोजन हार्मोन शरीर में तेजी से बढ़ते हैं, जिसकी वजह से यूट्राइन लाइनिंग मोटी होती है जिससे महिलाओं को कब्ज की समस्या का सामना करना पड़ता है. यह समस्या अगर लंबे समय तक बनी रहती है तो पेट में गैस बनना, रेस्टलेसनेस, वॉमिटिंग और पेट दर्द जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है. कब्ज की समस्या से निपटने के लिए आप कई तरह के उपाय अपना सकती हैं. आइए जानते हैं इससे बचने के कुछ आसान उपाय.

खूब पानी पीएं
वैरी वैल फैमिली डॉट कॉम के अनुसार कब्ज की समस्या से बचने के लिए आपको ज्यादा से ज्यादा पानी पीना और हाइड्रेटेड रहना चाहिए. एक दिन में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीने का नियम निर्धारित करें और फाइबर युक्त भोजन ग्रहण करें, यह आपके मल को बाहर निकालने में मदद कर सकता है.

ओट्स का करें सेवन
ओट्स में इन्सॉल्यूब्ल फाइबर होता है जो आपकी बॉडी में बॉवेल मूवमेंट को बढ़ाने में मदद करता है. होल ग्रेन्स, ब्राउन राइस, बीन्स, और ताजे फल और सब्जियां खाने से आपका डाइजेस्टिव सिस्टम अच्छे से कार्य करता है जिससे आपकों कब्ज की शिकायत कम होती है .

यह भी पढ़ेंः मुंह का कैंसर: सामान्य दिखने वाले लक्षण भी हो सकते हैं जानलेवा, जानें कारण

लाइट एक्सरसाइज करें
डाइजेस्टिव सिस्टम को सही करने के लिए आपको लगभग हर दिन 30 मिनट तक टहलना चाहिए. इससे बचने के लिए आप पवन मुक्तासन, मार्जरी आसन, उत्तानासन, और त्रिकोणासन कर सकते हैं लेकिन, अगर आपका सी-सेक्शन हुआ है तो आपको एक्सराइज शुरु करने से पहले डॉक्टर से राय ले लेनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: पीतल का दीया, मूर्तियां और बर्तन पड़ गए हैं काले तो इन तरीकों से मिनटों में करें साफ

प्रेशर को न रोकें
जब आपके शरीर से मल बाहर आने वाला हो तो उसको अनावश्यक नहीं रोकना चाहिए. इसको बाहर न आने देने से यह आपके शरीर के अंदर लंबे समय तक रहकर सख्त हो जाता है और इससे बाद मल को त्यागते समय आपको परेशानी झेलनी पड़ती है. मल को अधिक समय तक पेट में रखने से डिलीवरी के समय ऑपरेशन से पेट में लगे टांकों पर भी भार पड़ता है.

Tags: Health, Home Remedies, Lifestyle

Source link

पहले थे जानी दुश्मन और फिर बन गए दोस्त, अब फिर से आमने सामने होंगे ‘बिग बॉस 16’ के ये कंटेस्टेंट

HAL में Apprentice के पदों पर निकली भर्ती, ऐसे करें आवेदन | HAL Apprentice Recruitment 2022, jobs news