in

डिलीवरी के बाद होने वाली सामान्य समस्याएं, महिलाएं इनके बारे में जरूर जान लें

हाइलाइट्स

ब्रेस्टफीडिंग के दौरान दर्द के साथ रेडनेस और सूजन होना सामान्य नहीं है. डिलीवरी के बाद डिप्रेशन या असामान्य महसूस होने पर अपने पार्टनर से बात करें.

Postpartum Complications : महिलाओं में डिलीवरी के बाद कुछ सामान्य समस्याएं और परेशानियां होना आम है, अधिकतर महिलाएं इन असहज समस्याओं से गुजरती है. एक बच्चे को जन्म देना कोई आम बात नहीं है, डिलीवरी के समय एक महिला के शरीर में काफी बदलाव और जख्म होते हैं जिन्हें उभरने में कुछ समय जरूर लगता है लेकिन वे समय के साथ खुद ठीक और सामान्य होने शुरू हो जाते हैं. डिलीवरी के बाद आपको अपनी साफ-सफाई और सेहत का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है.

आपको अपनी बॉडी और उसमें हुए सभी बदलावों को समझकर अपना ख्याल रखना चाहिए और बच्चे के साथ-साथ खुद को भी वक्त देना चाहिए. आप खुद हेल्दी महसूस करेंगी तभी अपने बच्चे का भी ख्याल रख सकेंगी. इसीलिए आज हम आपके लिए लेकर आए हैं, डिलीवरी के बाद होने वाली कुछ सामान्य हेल्थ कॉम्प्लिकेशंस. आइए जानते है…

डिलीवरी के बाद होने वाली सामान्य समस्याएं 

हेवी ब्लीडिंग 
हेल्थलाइन डॉट कॉम के मुताबिक डिलीवरी के तुरंत बाद ब्लीडिंग होना नॉर्मल है, अधिकतर महिलाओं को बच्चे के जन्म के तुरंत बाद से दो से 6 हफ्तों तक ब्लीडिंग रहती है. डिलीवरी के बाद ब्लीडिंग समय के साथ नॉर्मल और कम होनी शुरू हो जाती है लेकिन अगर ब्लीडिंग टाइम के साथ नॉर्मल होने के बजाय बढ़ती है और उसके साथ क्लॉटिंग की समस्या भी हो रही है तो आपको तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए.

इंफेक्शन 
सर्जरी और शरीर में टांके के चलते इंफेक्शन हो सकता है. इसलिए डॉक्टर्स डिलीवरी के बाद साफ-सफाई का खास ख्याल रखने की सलाह देते हैं. ऐसे में अगर यूरीनेशन के समय दर्द, बुखार, रेडनेस, इरिटेशन महसूस होती है तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

ब्रेस्ट पैन 
प्रेगनेंसी में डिलीवरी के बाद ब्रेस्ट पैन की समस्या और असामान्य महसूस होना आम है. शुरुआत में ब्रेस्टफीडिंग के दौरान सूजन और दर्द होना सामान्य है, जिससे राहत पाने के लिए आप कोल्ड ओर हॉट कंप्रेस का इस्तेमाल कर सकती हैं. अगर कुछ समय बाद भी ब्रेस्ट में दर्द, फ्लू जैसे लक्षण, रेडनेस और बुखार महसूस होता है तो आपको डॉक्टर की सलाह लेनी जरूरी है.
डिप्रेशन 
डिलीवरी के बाद कुछ समय तक असहज महसूस करना या थोड़ा अप-डाउन फील करना आम है, जिसे अधिकतर सभी महिलाएं महसूस करती हैं लेकिन अगर कुछ समय बाद भी आप ऐसा ही महसूस करती हैं, जिसके चलते बच्चे का भी ख्याल नहीं रख पा रही हैं तो यह डिप्रेशन के लक्षण हो सकते हैं. ऐसा महसूस करते ही अपने पार्टनर से बात करें और अच्छे डॉक्टर की मदद लें.

ये भी पढ़ें: बच्चों की एकाग्रता बढ़ाने के लिए आजमाएं ये तरीके, पढ़ते समय नहीं भटकेगा ध्यान

ये भी पढ़ें: पैरेंट्स टीचर मीटिंग में इन बातों का रखें खास ख्याल, बच्चों को नेगेटिविटी से बचाने के लिए न करें ये गलतियां

Tags: Health, Lifestyle, Pregnancy, Pregnant woman, Women Health

Source link

Pankaj Tripathi : ‘कालीन भैया’ जब दिवाली पर दीपक जलाने के लिए सरसों-तीसी पेरवाने जाते थे, अधूरे थे सपने!

सोनम कपूर और भारती सिंह समेत ये 6 सेलेब्स कपल पहली बार बेबी के साथ मनाएंगे दिवाली