in

दिसंबर में बनाएं ‘गुजरात का कच्छ’ घूमने का प्‍लान, कमाल का रहेगा ट्रैवलिंग एक्‍सपीरियेंस

हाइलाइट्स

दिसंबर में यहां का तापमान 12-25 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है. पूर्णिमा की रात में जगमगाता सफेद रेत रेगिस्तान कमाल का लगता है.

Kutch In December: विशाल जगमगाते सफेद रेगिस्तान, ऐतिहासिक शहर, मंदिरें, गुफाएं और शानदार वन्यजीव अभयारण्यों से भरा शहर कच्‍छ, जहां हर तरह के यात्रियों के लिए कुछ न कुछ खास जरूर है. इस जगह की रौनक सर्दियों के दौरान और भी भव्‍य नजर दिखती है. गुजरात के कच्‍छ में अगर आप दिसम्‍बर के महीने में आएं तो यहां की आबोहवा धरती पर स्वर्ग से कम नहीं लगती. ऐसे में अगर आप दिसंबर में एक ऐसी यात्रा करना चाहते हैं जो आपको कुछ खास अनुभव कराए तो इस साल कच्‍छ जाने का प्‍लान बनाएं. यहां हम आपको बताते हैं कि आप यहां किस तरह अमेजिंग ट्रैवल एक्‍सपेरियेंस ले सकते हैं.

यहां का मौसम
कच्छ में दिसंबर का महीना ठंडा होता है जिसमें तापमान 12-25 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है. जिस वजह से यह वातावरण पर्यटकों के लिए काफी कंफर्टेबल और आनंददायक होता है. आप यहां हल्के ऊनी कपड़ों में ही यात्रा का आनंद उठा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : भारत की ये जगहें बर्फबारी के लिए हैं प्रचलित, सर्दियों में खूबसूरत होता है यहां का नज़ारा, एक बार ज़रूर पहुंचें

रण महोत्‍सव
एक तरफ थार रेगिस्तान और दूसरी तरफ नीला अरब सागर के बीच बसा कच्छ का ग्रेट रण, किसी प्राकृतिक आश्चर्य से कम नहीं है.  नमक और रेत के इस रेगिस्‍तान में यहां रण महोस्‍तव का आयोजन किया जाता है. दिसंबर के महीने में पूर्णिमा की रात जगमगाता सफेद रेत रेगिस्तान कमाल का लगता है. रण महोत्सव हर साल अक्टूबर और फरवरी के बीच होता है जिसमें यहां की सांस्कृतिक प्रदर्शन, रेगिस्तान सफारी, गर्म हवा वाले गुब्बारे की सवारी, शॉपिंग, फूड आदि का आप यहां आनंद ले सकते हैं.

मांडवी
अगर आप सीबीच पर धूप सेंकने का आनंद उठाना चाहते हैं तो दिसंबर में कच्छ स्थित मांडवी की योजना बनाएं. यह कच्छ क्षेत्र के सबसे सुंदर समुद्र तट स्थलों में से एक है, जिसे दिसंबर के दौरान देखा जा सकता है. ठंडी समुद्री हवा, गर्म धूप का आनंद, समुद्र तट पर टहलना आपके वेकेशन को बेहतरीन बनाएगा.

तोपानसर झील
तोपानसर झील जहां हर साल दिसंबर के महीने में सुंदर प्रवासी पक्षियां बड़ी संख्‍या में आते हैं. यह जगह मांडवी के काफी पास है.

भुज
ऐतिहासिक जगह भुज भी कच्‍छ क्षेत्र में ही मौजूद है. यहां हर साल भारी संख्‍या में सैलानी पहुंचते हैं और ऐतिहासिक मंदिर, आइना महल, स्‍वामी नारायण मंदिर, डेजर्ट वाइल्‍ड लाइफ आदि का आनंद उठाते हैं.

ये भी पढ़ें: पैराग्लाइडिंग के शौकीन लोगों के लिए ‘जन्नत’ हैं ये 4 डेस्टिनेशंस

सियोट की गुफाएं
जिन लोगों को इतिहास जानने का शौक है उनके लिए सियोट की गुफाएं एक बेहतरीन जगहों में से एक है. यहां आप बौद्ध और हिंदू धर्म के आर्किटेक्‍चर को करीब से देख पाएंगे. यह जगह भुज से करीब 125 किलोमीटर दूर है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Gujrat, Lifestyle, Travel

Source link

Video: ‘मां’ बनने के बाद पहली बार द‍िखीं आल‍िया भट्ट, रणबीर कपूर बेटी को लेकर पहुंचे घर

BTS मेम्बर जिन की बिलबोर्ड हॉट-100 में हुई एंट्री, PSY के बाद बने दूसरे कोरियन आर्टिस्ट