in

बदलते मौसम में बढ़ सकती है दाद की समस्‍या, इन होम रेमेडी से मिल सकता है छुटकारा

हाइलाइट्स

दाद की समस्‍या को ठीक करने के लिए हल्‍दी का लेप फायदेमंद हो सकता है.दाद से होने वाली खुजली को शांत करने के लिए एलोवेरा जेल का प्रयोग करें.एप्‍पल साइडर विनेगर के प्रयोग से दाद से छुटकारा मिल सकता है.

Skin Problems: दाद की समस्‍या अधिक ड्राईनेस की वजह से ये सर्दी के मौसम में भी ट्रिगर कर सकती है. दाद त्‍वचा पर लाल, पपड़ीदार और खुजलीदार पैच का कारण बनती है. समय के साथ ये एक रिंग का आकार ले लेती है जिसे रिंगवर्म के नाम से भी जाना जाता है. हेल्‍थलाइन के अनुसार दाद की समस्या शरीर में कहीं भी हो सकती है लेकिन ये अधिकतर हाथों और सिर पर दिखाई देती है. दाद को कई नामों से जाना जाता है जैसे कमर में होने वाली दाद को जॉक खुजली कहा जाता है वहीं पैर की उंगलियों के बीच में होने वाली दाद को एथलीट फुट का नाम दिया गया है. ये एक सामान्य फंगल इंफेक्‍शन है जिसका इलाज घरेलू चीजों से ही किया जा सकता है. यदि इंफेक्‍शन बड़ा और घाव वाला है तो उसे डॉक्टर को दिखाना आवश्यक है. चलिए जानते हैं दाद की समस्या से छुटकारा पाने के लिए कौन सी होम रेमेडी अपनाई जा सकती है.

ये भी पढ़ें:Yoga Session: मलासन से ब्लड सर्कुलेशन होता है इंप्रूव, जानें अभ्यास का सही तरीका

एप्‍पल साइडर विनेगर
एप्‍पल साइडर विनेगर में स्ट्रांग एंटी फंगल गुण होते हैं जो दाद के इलाज में मदद कर सकते हैं. प्रभावित क्षेत्र पर एक रूई के टुकड़े को एप्‍पल साइडर विनेगर में भिगोकर लगाने से राहत मिल सकती है. इसका प्रयोग दिन में तीन बार करने से दाद से जल्‍द ही छुटकारा मिल सकता है.

टी ट्री ऑयल
दाद पर टी ट्री ऑयल का प्रयोग ऑस्ट्रेलियाई लोग अधिक करते थे क्‍योंकि इसमें भरपूर मात्रा में एंटी-फंगल और एंटी-बैक्‍टीरियल गुण होते हैं. आज भी टी ट्री ऑयल त्‍वचा संबंधी रोगों के लिए प्रयोग किया जा रहा है. टी ट्री ऑयल को भी रूई की सहायता से प्रभावित जगह पर लगाया जा सकता है. त्‍वचा यदि ज्‍यादा संवेदनशील है तो इसे नारियल तेल के साथ मिलाकर लगा सकते हैं.

हल्‍दी
हल्‍दी के कई हेल्‍थ बेनिफिट्स हैं. इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टी होती है जो फंगल इंफेक्‍शन को बढ़ने से रोकती है. दाद पर ताजी पिसी हुई हल्‍दी का लेप लगाने से आराम मिल सकता है. पानी के साथ हल्‍दी को मिलाकर लेप तैयार करें और प्रभावित जगह पर सूखने तक लगा रहने दें. रोजाना इसका इस्‍तेमाल करने से दाद से छुटकारा मिल सकता है.

ये भी पढ़ें:Intermittent Fasting से महिलाओं को हो सकता है बड़ा नुकसान, नई रिसर्च में हुआ खुलासा

एलोवेरा जेल
एलोवेरा जेल को लंबे समय से बैक्‍टीरिया और फंगल इंफेक्शन के लिए प्राकृतिक उपचार के रूप में उपयोग किया जा रहा है. ये दाद में होने वाली खुजली, सूजन और बेचैनी जैसे लक्षणों को शांत कर सकता है. एलोवेरा जेल को सीधे प्रभावित जगह पर लगाने से ठंडक मिलेगी. इसका प्रयोग दिन में तीन से चार बार कर सकते हैं.

Tags: Health, Lifestyle

Source link

दर्शकों को हंसाती नजर आएंगी करीना कपूर, तब्बू और कृति सेनन, जानें फिल्म की डिटेल्स

Entertainment TOP-5: हास्य अभिनेता लेस्ली फिलिप्स का निधन, मुश्किलों में पड़े कॉमेडियन वीर दास