in

महिलाओं को दिख रहे हैं ऐसे लक्षण तो हो सकता है PCOS, जानें इसे मैनेज करने का तरीका

हाइलाइट्स

पीसीओएस होने पर डायि‍बटीज टाइप टू होने की संभावना काफी अधिक हो जाती है. लाइफस्‍टाइल और डाइट में बदलाव लाकर आप पीसीओएस को कंट्रोल कर सकती हैं.

Pcos Symptoms And Treatment: पॉलीसिस्टिक सिंड्रोम एक कॉमन हार्मोनल प्रॉब्‍लम है जो महिलाओं को कम उम्र से ही परेशान कर सकती है. यह एक एंडोक्राइन डिसऑर्डर है जो महिलाओं में इन दिनों काफी आम है. इसकी वजह से पीरियड्स में अनियमितता, पीरियड्स के दौरान तेज दर्द, बॉडी हेयर ग्रोथ, इंफर्टीलिटी की समस्‍या, तेजी से वजन बढ़ना आदि हो सकता है. होपकिंसमेडिसीन के मुताबिक, इस डिसऑर्डर के कारण महिलाओं के शरीर में एंड्रोजन हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है और ओवरीज में सिस्‍ट बनने लगते हैं. इसके अलावा, पीसीओएस होने पर डायि‍बटीज टाइप टू होने की संभावना भी काफी हो जाती है.

इसके अलावा, हाई ब्‍लड प्रेशर, हार्ट प्रॉब्‍लम, इंडोमेट्रियल कैंसर की संभावना भी बढ़ जाती है. ऐसे में अगर महिलाएं फैमिली प्‍लानिंग करना चाहती हैं तो जान लें कि इसका इलाज अलग तरीके से किया जाता है. तो आइए जानते हैं कि पीसीओएस के लक्षण क्‍या हैं.

पीसीओएस के शुरुआती लक्षण

-मिस्ड पीरियड्स, अनियमित पीरियड्स या बहुत हल्के पीरियड्स.
-अंडाशय का बड़ा हो जाना और उनमें सिस्ट बनना.
-छाती, पेट और पीठ आदि पर हिर्सुटिज़्म यानी कि घने बाल होना.
-वजन बढ़ना, खासकर पेट के आसपास.
-मुंहासे या त्वचा का अधिक ऑयली होना.

यह भी पढ़ेंः क्या टाइप 2 डायबिटीज को रिवर्स करना पॉसिबल? जानें जरूरी बातें

इस तरह करें पीसीओएस को मैनेज

डाइट में बदलाव
अधिक से अधिक हाई फाइबर वाले फूड का सेवन करें. यह डायजेशन प्रोसेस को स्‍लो करता है जिससे ब्‍लड में शुगर का प्रभाव कम होता है और इससे इंसुलिन की समस्‍या नहीं बढ़ती. इसके अलावा आप अपने डाइट में एंटी-इंफ्लेमेटरी फूड को भी शामिल करें.

तनाव से बचें
पीसीओएस को कंट्रोल करने के लिए जरूरी है कि आप तनाव को खुद से दूर रखें. इसके लिए पर्याप्त नींद लें और अपने तनाव के स्तर को कम करने के लिए ध्यान और योग आद‍ि का सहारा लें.

यह भी पढ़ेंः साइकिलिंग करने से बेहतर होती है फिटनेस, बीमारियों का खतरा होता है कम

वर्कआउट करें
अगर आप पीसीओएस से बचना चाहती हैं तो जरूरी है कि आप अपने दिनचर्या में अधिक से अधिक व्यायाम आदि को शामिल करें. वर्क आउट से वजन कम होगा और महिलाओं को ओव्यूलेशन साइकिल बेहतर करने मे मदद मिलेगी.

दवाओं का सहारा
दवाओं की मदद से ओवेरियन में एग रिलीज करने में मदद मिलता है. इन्‍हें आप डॉक्‍टर की सलाह पर ले सकती हैं.

Tags: Health, Lifestyle, Women Health

Source link

Chhath Geet: रितेश पांडे का ये छठ गीत सुन गदगद हो जाएगा मन, डिंपल सिंह ने किया व्रत! देखिए VIDEO

Chhath Geet: Tv की पार्वती का पवन सिंह संग धमाका, रिलीज हुआ पहला छठ गीत ‘उगी सुरुज देव’, आपने देखा?