in

मेटाबॉ‍लिज्‍म कम होने से भी वजन घटाने में होती है बड़ी पेरशानी, जानें इसके स्‍लो होने के 8 संकेत

हाइलाइट्स

मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होने का पहला लक्षण है वजन का तेजी से बढ़ना.मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होने पर भूलने की समस्‍या भी हो सकती है.

Slow metabolism signs: क्‍या आपके साथ कभी ऐसा हुआ है कि आप वजन घटाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे  हों लेकिन वजन है कि घटने का नाम ही नहीं लेता? अगर आप ऐसे हालात से गुजर चुके हैं तो हो सकता है कि इसकी वजह आपका स्‍लो मेटाबॉलिज्‍म हो. जी हां, अगर आपका मेटाबॉलिज्‍म बेहतर काम कर रहा है तो ये आपके वजन को कम करने में मदद करता है. जबकि स्‍लो मेटाबॉलिज्‍म की वजह से वजन को कम करना बहुत ही मुश्किल भरा काम होता है.

ईटदिसनॉटदैट के मुताबिक, दरअसल, आपका मेटाबॉलिज्‍म वह प्रक्रिया है जिसकी वजह से आपका शरीर आपके दिल की धड़कन, मस्तिष्क के कार्य और श्वास जैसे बुनियादी शारीरिक कार्यों के लिए कैलोरी बर्न करता है. इस तरह आपका मेटाबॉलिज्‍म ईंधन के लिए भोजन को जलाता है. तेज मेटाबॉलिज्‍म वाले लोग जो चाहें खा सकते हैं और उनका वजन नहीं बढ़ा, जबकि स्‍लो मेटाबॉलिज्‍म वाले लोगों को अपना वजन कम करने या वजन कंट्रोल में रखने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है.

मेटाबॉलिज्‍म बढ़ाने के लिए क्‍या करें
अगर आपका वजन नहीं घटता और ये बढ़ता ही जा रहा है तो आप जरूर थायराइड टेस्‍ट कराएं. हाइपर थायराइट की समस्‍या होने से यह आपके मेटाबॉलिज्‍म को प्रभावित करता है. ऐसे में आप डॉक्‍टर की सलाह लें और मेटाबॉलिज्‍म बढ़ाने वाली चीजों को डाइट में शामिल करें.

मेटाबॉलिज्‍म कम होने के ये हैं लक्षण

वजन का बढ़ना
मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होने का पहला लक्षण होता है वजन का तेजी से बढ़ने लगना. अगर आप बेहतर लाइफ स्‍टाइल जी रहे हैं, व्‍यायाम कर रहे हैं, डाइट का ख्‍याल रख रहे हैं तो भी वजन बढ़ रहा है तो यह मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होने के लक्षण हैं.

यह भी पढ़ेंः महिलाओं की लंबी जिंदगी का ‘सीक्रेट’ आया सामने ! आप भी करें फॉलो

 वजन का नहीं घटना
अगर आप चाह कर भी वजन नहीं घटा पा रहे तो ये भी मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होने के लक्षण हैं. ऐसा होने से वजन तो बढ़ता ही है, वजन को घटाना सबसे मुश्किल काम लगता है.

थकावट
जब शरीर कम स्‍पीड में कैलोरी को बर्न करती है तो इसकी वजह से शरीर में थकावट महसूस होना आम बात है. यह भी मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होने का बड़ा लक्षण है.

स्किन का ड्राई होना
जब आपको मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होता है तो इससे आपकी स्किन सेल्‍स भी बेहतर काम नहीं करतीं. इसकी वजह से स्किन सेल्‍स में बेहतर ब्‍लड सप्‍लाई नहीं हो पाता और स्किन वीटल न्‍यूट्रिएंट गेन करने में फेल हो जाती हैं. जिससे स्किन ड्राई होने लगती हैं.

बालों का झड़ना
स्‍लो मेटाबॉलिज्‍म रेट की वजह से माइक्रो न्‍यूट्रिएंट्स की कमी होने लगती है जिसका असर बालों की सेहत पर भी पड़ता है.

यह भी पढ़ेंः दुबले-पतले लोगों को Type 4 Diabetes का ज्यादा खतरा? अभी जान लीजिए

 सिर में दर्द
थायराइट की वजह से मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होता है और सिर में दर्द या माइग्रेन की समस्‍या को ये ट्रिगर करता है.

भूलने की समस्‍या
हार्मोनल बदलाव से मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो होता है और इसकी वजह से से भूलने की समस्‍या से हम जूझने लगते हैं.

हमेशा ठंड लगना
हाइपोथायराइडिज्‍म की समस्‍या से मेटाबॉलिज्‍म स्‍लो रहता है जिसका एक और लक्षण है हर वक्‍त ठंड लगने की समस्‍या.

अन्‍य लक्षण
डिप्रेशन, लो पल्‍स रेट, चीनी और कार्ब क्रेविंग, पीरियड पेन, कब्‍ज आदि भी इसके लक्षण हो सकते हैं.

Tags: Health, Lifestyle

Source link

Entertainment 5 Positive News: शहनाज गिल से परिणीति चोपड़ा तक, पढ़िए 5 पॉजिटिव खबरें

Malaika Arora Video: पलक झपकते ही बदला मलाइका अरोड़ा का अंदाज, सोशल मीडिया पर मचा शोर!