in

रात को सोने से पहले कैसी होनी चाहिए हेल्दी डाइट? यहां जानिए

हाइलाइट्स

अच्‍छा फूड खाने से रात में आती है अच्‍छी नींद. टार्ट चेरी जूस पीने से स्‍लीप क्‍वालिटी में होता है सुधार.केला स्‍लीप को रेगुलेट करने में निभाता है अच्छी भूमिका.

Food Before Sleeping At Night – लाइफस्‍टाइल से जुड़े कई फेक्‍टर्स स्‍लीप क्‍वालिटी को प्रभावित करते हैं, इनमें से एक अहम फेक्‍टर है कि सोने से पहले खाने में क्‍या खाया गया है. नींद की कमी से उन हार्मोन्‍स पर नकारात्‍मक असर पड़ सकता है जो भूख को नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभाते हैं. सोने से पहले अनहेल्‍दी खाना खाने से इनसोमनिया हो सकता है, जो एक स्‍लीप डिसऑर्डर है. खाने में आमतौर पर शामिल किए जाने वाले पोषक तत्‍व और पदार्थ प्रॉपर स्‍लीप साइकिल को प्रभावित कर सकते हैं. अच्‍छी नींद शरीर के नॉर्मल बायोलॉजिकल साइकिल का एक हिस्‍सा है. 24 घंटे की साइकिल को सर्केडियन रिदम के रूप में जाना जाता है, जो शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाए रखने के लिए जरूरी होता है.

मेलाटोनिन और सेरोटोनिन जैसे हार्मोन्‍स ही शरीर को आराम करने के लिए हार्ट और रेस्‍पीरेटरी रेट के साथ ही साथ ब्रेन और मसल्‍स फंक्‍शन के काम में बदलाव करते हैं. डाइट इस साइकिल को प्रभावित करती है. कुछ फूड आइटम्‍स नींद को बेहतर बनाते हैं जबकि कुछ पदार्थ नींद को खराब कर सकते हैं.

अच्‍छी नींद के लिए बेस्‍ट फूड

हेल्‍थ डॉट कॉम के मुताबिक अच्‍छा फूड खाने से रात में बेहतर नींद आती है. इन फूड में क्‍या-क्‍या शामिल हैं आइए जानते हैं.

टार्ट चेरीज
डाइट में टार्ट चेरी जूस को शामिल करने से स्‍लीप टाइम और क्‍वालिटी दोनों में सुधार हो सकता है. टार्ट चेरीज में मेलाटोनिन नाम का हार्मोन पाया जाता है, जो एक प्रमुख स्‍लीप हार्मोन है. एक अध्‍ययन के मुताबिक जो लोग रोज रात में टार्ट चेरी जूस का सेवन करते हैं उनके यूरिन में मेलाटोनिन का हाई लेवल पाया गया. उनके स्‍लीप टाइम और क्‍वालिटी में भी पहले की तुलना में सुधार देखा गया.

केला
केला में भरपूर मात्रा में पोटेश‍ियम होता है, जो मसल्‍स और नर्व फंक्‍शन को प्रोपर बनाए रखने के लिए बहुत जरूरी मिनरल है. बॉडी इस कम्‍पाउंड का इस्‍तेमाल मेलाटोनिन और सेरोटोनिन को प्रोड्यूस करने में इस्‍तेमाल करती है. ये दोनों कम्‍पाउंड स्‍लीप को रेगुलेट करने में प्रमुख भूमिका निभाते हैं.

इसे भी पढ़ें: IVF तकनीक के जरिए बन रही हैं मां, तो इतने दिनों में ऐसे नजर आते हैं लक्षण, बरतें सावधानियां

ग्रीक योगर्ट
ग्रीन योगर्ट में पाया जाने वाला प्रोटीन और कैल्शियम अच्‍छी नींद में मदद करते हैं. लो-प्रोटीन डाइट को पुअर स्‍लीप क्‍वालिटी के लिए जिम्‍मेदार माना जाता है. ग्रीक योगर्ट की एक सर्विंग डेली कैल्शियम जरूरत का 15 से 20 प्रतिशत पूरा करता है. कैल्शियम की डेली नीड पूरी न होने से नींद की क्‍वालिटी पर असर पड़ सकता है. विटामिन डी के साथ आने वाला ग्रीक योगर्ट भी नींद के लिए एक महत्‍वपूर्ण न्‍यूट्रिएंट है.

Tags: Food, Health, Lifestyle

Source link

दिवाली पर ‘राम सेतु’ से अजय देवगन की ‘थैंक गॉड’ की होगी टक्कर, बॉक्स ऑफिस पर कौन होगा किस पर हावी?

वायरल हो रहा निया शर्मा का ग्लैमरस अवतार, खुद को कमेंट करने से नहीं रोक पाया ‘Bigg Boss’ का ये कंटेस्टेंट