in

रिश्तों पर गहराई से असर डालती है बोरिंग पर्सनैलिटी, कहीं आप तो नहीं हो रहे ऐसे?

हाइलाइट्स

बोरिंग पर्सनेलिटी के लोगों की मेंटल हेल्थ डिस्टर्ब्ड रहती है.कॉम्युनिकेशन स्किल्स की कमी इन्हें कम इंटरेक्टिव बनाती है.

Traits of a Boring Personality : खुशमिजाज लोग हर महफ़िल की शान होते हैं, इनके पास रहने से एक पॉजिटिविटी महसूस होती है. सबसे बात करना, मस्ती मज़ाक करना और अपने आस पास के लोगों को खुश रखना भी एक कला है. एक ओर जहां हैप्पी गोइंग पर्सनैलिटी आपको भीड़ से अलग दिखाकर, पर्सनैलिटी को अट्रैक्टिव बनाने में मदद करती है. वहीं दूसरी ओर आते हैं बोरिंग लोग, जिनका आस पास होना ना होना बराबर लगता है. बोरिंग पर्सनैलिटी ना अट्रैक्टिव होती है और ना ही स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छी मानी जाती है. उनकी मेंटल हेल्थ अच्छी नहीं होती जिसके चलते फिजिकल बॉडी भी फिट नहीं रह पाती. बोरिंग पर्सनैलिटी के लोग अपनी फीलिंग्स जाहिर नहीं कर पाते और ना ही किसी की बात सुनना पसंद करते हैं. व्यक्ति को पता भी नहीं चलता और शांत स्वभाव धीरे धीरे बोरिंग पर्सनैलिटी में बदल सकता है. समय रहते सोसायटी और रियल हैप्पीनेस से जुड़ना ही आपका जीवन खुशहाल बना सकता है.

इसे भी पढ़ें: रिलेशनशिप में हर वक्‍त दूसरे को ब्‍लेम करना खतरनाक, ऐसे निकालें हल

इन आदतों से पर्सनैलिटी बन सकती है बोरिंग
बोरिंग पर्सनैलिटी के लोग किसी काम में इंटरेस्ट नहीं रखते हैं. वो एक ही तरह का काम करते हैं और कोई नई चीज़ ट्राई करना भी पसंद नहीं करते. ये उनकी मेंटल ग्रोथ पर भी बुरा असर डालता है. नेगेटिव बातें सोचना और बोलना भी बोरिंग होने का ही असर है. ऐसे लोग किसी काम को खुश मन से नहीं करते और हर चीज़ के सिर्फ बुरे रिज़ल्ट पर ही ध्यान देते हैं. यहीं कारण है की ऐसे लोगों का फ्रेंड सर्कल बहुत छोटा होता है.

इन बातों से खुद की पर्सनैलिटी करें चेक
बोरिंग पर्सनैलिटी के लोग अच्छे से ग्रूम नहीं होते. ऐसे लोग अपने टैलेंट कभी नहीं जान पाते और सोसाइटी से अलग रहकर अकेलेपन को ही लाइफ बना लेते हैं. बोरिंग पर्सनैलिटी मतलब ख़राब कॉम्युनिकेशन स्किल्स. ऐसे लोग पहले तो किसी से बात करना पसंद नहीं करते, और अगर करते भी हैं तो वो ना मजेदार होती है और ना असरदार. ज्यादा लोगों के बीच रहना, मस्ती मजाक करना याकोई खेल खेलना तक इन्हें पसंद नहीं होता. हमेशा एक तरफा लाइफ जीना इनकी आदत बन जाती है और ये उस बोरिंग कंफर्ट जोन से कभी बाहर नहीं आ पाते.

इसे भी पढ़ें: रिलेशनशिप में तनाव से बढ़ सकती है इमोशनल डिस्टेंसिंग, जानिए अन्य वजह

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Lifestyle, Relationship

Source link

निशा रावल ने करण मेहरा पर लगाए विक्टिम कार्ड खेलने के आरोप, बोलीं- ‘मुझे अपने बच्चे के लिए डर लग रहा है’

Celeb Education: अंग्रेजी भाषा की जानकार हैं मिथुन चक्रवर्ती की बहू, जानिए मदालसा शर्मा की डिग्री का स्टेटस