in

लक्षण दिखने से पहले हो सकेगी अल्जाइमर की पहचान, नई तकनीक हो सकती है ‘गेमचेंजर’

हाइलाइट्स

अल्‍जाइमर के लक्षण से पहले ही बीमारी को पहचाना जा सकता है. हर साल दुनियाभर में लाखों लोग अल्‍जाइमर की चपेट में आते हैं.

Alzheimer’s Symptoms: अल्‍जाइमर की समस्या से बड़ी संख्या में लोग जूझ रहे हैं. किसी भी बीमारी की सही समय पर पहचान हो जाए तो ट्रीटमेंट में आसानी हो जाती है. इससे बीमारी ज्यादा गंभीर रूप नहीं ले पाती. अल्जाइमर को लेकर वैज्ञानिकों को बड़ी सफलता मिलती दिख रही है.  द सन की एक रिपोर्ट के मुताबिक हार्वर्ड और एमआईटी के वैज्ञानिकों ने एक नई उपचार तकनीक की खोज की गई है, जो अल्‍जाइमर बीमारी होने और इसके लक्षण दिखने से पहले ही इसके होने की संभावना की पहचान कर सकेगी. उनका कहना है कि इसकी मदद से अल्‍जाइमर की बीमारी का इलाज तेजी से किया जा सकेगा. यूके में 65 साल से अधिक के हर 14 लोगों में से एक इंसान को यह बीमारी है. इसकी वजह से मेमोरी लॉस और याद रखने की क्षमता कम हो जाती है. दुनियाभर में लाखों लोग इस बीमारी की चपेट में तेजी से आ रहे हैं.

क्या बोले शोधकर्ता?
इस रिसर्च के सीनियर ऑथर डॉ. अमित खेरा का कहना है कि रिसर्चर्स की टीम ने अल्‍जाइमर बीमारी का जेनेटिक प्रेडिक्‍टर ढूंढ निकाला है, जो आनुवांशिक और क्‍लीनिकल अल्‍जाइमर के लक्षण को बीमारी होने से पहले ही पहचान सकेगा. निश्चित रूप से इस खोज को न्यूरोकॉग्निटिव डिजीज के नए बायोमार्कर के रूप में नामांकित किया जाएगा. अमेरिका के एमआईटी और हार्वर्ड के ब्रॉड इंस्टीट्यूट के मनीष परांजपे ने 7.1 मिलियन सामान्य डीएनए वेरिएंट के डेटा की मदद से ऐसी विधि विकसित की है, जो किसी व्यक्ति में अल्जाइमर के जोखिम की भविष्यवाणी कर सकता है. इसके लिए शोधकर्ताओं ने जेनेटिक रिस्‍क स्‍कोर की मदद से अल्‍जाइमर के जोखिम वाले लोगों के प्रोटीन में आ रहे बदलाव से बीमारी का पता लगा सकेंगे.

यह भी पढ़ेंः डायबिटीज के मरीजों को इंसुलिन की कमी से हो सकती है ये गंभीर समस्या

अल्जाइमर के मुख्य लक्षण

मेमारी कमजोर होना: हाल की घटनाओं, किसी का नाम और जाने पहचाने चेहरे को बार बार भूल जाना इस बीमारी का मुख्‍य लक्षण होता है.
बार-बार रिपीट करना: इसके मरीज एक ही चीज को बार बार रिपीट करते हैं. मसलन बार बार सफाई करना, लोगों को फोन करना, कुछ लिखना आदि.
गलत जगह पर चीजों का रखना: अल्‍जाइमर के मरीजों में एक लक्षण होता है कि वे गलत जगह पर चीजों को छोड़ देते हैं या रखकर भूल जाते हैं.

कन्‍फ्यूजन: किसी दिन की तारीख भूल जाना या समय के बारे में निश्चित नहीं होना इस बीमारी के लक्षण होता है.
भटकाव: कई बार लोग अपने घर या पता को भूल जाते हैं. कई बार लोग खो सकते हैं या अपरिचित स्थानों पर चले जाते हैं.
भाषा भूलना: भाषा भूलने की समस्‍या या सही शब्द खोजने में समस्या होना.
मूड और बिहेवियर में बदलाव: कुछ लोगों का भूलने की वजह से मूड खराब हो जाता है. इस वजह से वे चिंतित या चिड़चिड़े हो जाते हैं.

यह भी पढ़ेंः हार्ट अटैक के बढ़ते मामलों से घट रहा जिम का क्रेज? सच जान लीजिए

Tags: Health, Lifestyle, Trending news

Source link

अमिताभ बच्चन पहली बार बने संगीतकार, आर बाल्की की फिल्म ‘चुप’ में दिया MUSIC

PHOTOS: रुपाली गांगुली ने की भगवान गणेश की पूजा, सोनू सूद सहित ये सेलेब्स गणपति विसर्जन में हुए शामिल