in

सामान्य लोगों की तुलना में एथलीट की हार्ट रेट होती है कम, जानें इसके पीछे का कारण

हाइलाइट्स

एथलीट का हार्ट होता है अधिक फिट. एक्‍सरसाइज से पड़ता है उनके हार्ट पर असर.एक्‍सरसाइज के दौरान एथलीट की हार्ट रेट भी होती है सामान्‍य से ज्‍यादा.

Why Athlete’s Heart Rate Low – अक्‍सर सुना होगा कि एथलीट की हार्ट रेट सामान्‍य लोगों की अपेक्षा कम होती है. सामान्‍यतौर पर औसत हार्ट रेट 60 से 80 बीपीएम के बीच होती है लेकिन कुछ स्‍पोर्ट्स पर्सन या एथ‍लीट की हार्टरेट 30 से 40 बीपीएम तक पहुंच जाती है. ऐसा माना जाता है कि एथलीट्स की लोअर हार्ट रेट कम होना उसकी नॉर्मल हेल्‍थ को दर्शाता है. जब तब एथलीट को चक्‍कर या थकावट महसूस नहीं होती तब तक वे हेल्‍दी ही माना जाता है. इससे उसके शरीर को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होता. अब सवाल ये उठता है कि आखिर एथलीट की हार्ट रेट सामान्‍य से कम क्‍यों होती है और इसके परिणाम क्या हो सकते हैं. चलिए जानते हैं कम हार्ट बीट होने के कारणों के बारे में.

सामान्‍य लोगों की तुलना में एक एथलीट की हार्ट रेट कम होना सामान्य ही माना जाता है. एक हेल्‍दी यंग एथलीट की हार्ट रेट 30 से 40 बीपीएस हो सकती है. हेल्‍थलाइन के अनुसार ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि एक्‍सरसाइज करने से हार्ट की मांसपेशियां काफी मजबूत हो जाती है. जिसके कारण हार्ट अधिक मात्रा में ब्‍लड पंप कर सकता है. हार्ट मजबूत होने से हार्ट मांसपेशियों को अधिक ऑक्‍सीजन फ्लो कर पाता है. हालांकि एक्‍सरसाइज के दौरान एक एथलीट की हार्ट बीट 180 से 200 बीपीएम तक पहुंच सकती है.

फिटनेस लेवल
सामान्‍य लोगों की तुलना में एथलीट अधिक एक्‍सरसाइज करते हैं. एक्‍सरसाइज करने की वजह से उनका हार्ट हेल्‍दी और फिट होता है. यानी एथलीट का हार्ट प्रति मिनट सामान्‍य लोगों की तुलना में कम बार धड़कता है.

दवाओं का असर
कई एथलीट फिट और बॉडी को मेंटेन करने के लिए दवाओं का सहारा लेते हैं. अधिक दवाएं लेने की वजह से भी हार्ट रेट पर असर पड़ता है. दवाओं से हार्ट रेट कम और ज्‍यादा दोनों हो सकती हैं. खासकर बीटा ब्‍लॉकर्स मेडिसिन हार्ट की गति को धीमा कर सकती है.

यह भी पढ़ेंः डायबिटीज से याददाश्त हो रही कमजोर? 20 मिनट में ऐसे तेज होगी मेमोरी

उम्र का प्रभाव
एथलीट यंग एज से ही फिट रहने के लिए मेहनत करते हैं जिस वजह से उनकी एनर्जी और स्‍टेमिना अन्‍य लोगों की अपेक्षा अधिक स्‍ट्रॉन्‍ग होता है. एक नॉनएथलीट पर्सन फिजिकल एक्‍टीविटी न करने के कारण उम्र से पहले ही वीक हो सकता है. जिस वजह से उनका हार्ट कमजोर और अस्‍वस्‍थ हो सकता है.

ये भी पढ़ें: ऑयली स्किन के लिए फॉलो करें ये मेकअप रिमूवर टिप्स, त्वचा भी रहेगी हेल्दी

कितनी होती है आइडियल हार्ट रेट
हर किसी की हार्ट रेट अलग-अलग होती है. 90 से 126 बीपीएम सामान्‍य हार्ट रेट की कैटेगरी में आती है. वहीं कई एथलीट की हार्ट रेट लोअर होती है जो 30 से 40 बीपीएम तक जा सकती है लेकिन एक्‍सरसाइज के दौरान 180 से 200 तक पहुंच सकती है.

Tags: Fitness, Health, Heart Disease, Lifestyle

Source link

Bigg Boss 16: राशन का त्याग कर कैप्टन बने गौतम विज, भड़के घरवालों ने उतारा ‘लालच’ का भूत

दुलकर सलमान ने बताई पत्नी की वो खासियत, जो अमल को बनाती है स्पेशल, जानें क्या बोले एक्टर