in

हड्डियों की सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है हाई बीपी, ऐसे करें अर्थराइटिस के साथ बीपी को मैनेज

हाइलाइट्स

हाइपरटेंशन से हड्डियां हो सकती हैं कमजोर. पुअर बोन क्‍वालिटी से बढ़ जाता है फ्रैक्‍चर का जोखिम.एक्‍सरसाइज से ब्‍लड प्रेशर को किया जा सकता है कंट्रोल.

How To Manage BP With Arthritis – आज की भागमभाग और तनावभरी जिंदगी में हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या आम हो गई है. अनहेल्‍दी लाइफस्‍टाइल और डेली रुटीन के कारण हाई ब्‍लड प्रेशर की परेशानी होती है. इसके अलावा डायबिटीज और मोटापा जैसी बीमारियां भी हाई ब्‍लड प्रेशर के जोखिम को बढ़ा सकती हैं. हाल ही में हुए कुछ अध्‍ययनों में इस बात का भी पता चला है कि हाई ब्‍लड प्रेशर से ऑस्टियोपोरोसिस का भी खतरा बढ़ जाता है. ऑस्टियोपोरोसिस एक बोन डिजीज है, जिसकी वजह से बोन मिनरल डेनसिटी घट जाती है और बोन स्‍ट्रक्‍चर में भी बदलाव आता है. इस तरह के बदलाव से हड्डियां कमजोर हो सकती है, जिसकी वजह से फ्रैक्‍चर का खतरा भी बढ़ जाता है. हाई ब्‍लड प्रेशर या हाइपरटेंशन से पीड़ित लोगों को ऑस्टियोपोरोसिस की वजह से फ्रैक्‍चर का जोखिम सबसे ज्‍यादा होता है.

हाई ब्‍लड प्रेशर और ऑस्टियोपोरोसिस के बीच कनेक्‍शन
मेडिकल न्‍यूज टुडे के मुताबिक कई क्‍लीनिकल रिसर्च से बात की पुष्टि हो चुकी है कि हाइपरटेंशन का सीधा कनेक्‍शन पुअर बोन क्‍वालिटी से है. शोधकर्ताओं का कहना है कि इनफ्लेमेशन में बढ़ोतरी होने से हाइपरटेंशन और ऑस्टियोपोरोसिस के बीच कनेक्‍शन बनता है.

हाई ब्‍लड प्रेशर वाले जरूर कराएं हड्डियों की जांच
शोधकर्ताओं के अनुसार, जिन लोगों को हाई ब्‍लड प्रेशर की शिकायत हैं, उन्‍हें एक निश्चित समय अंतराल पर ऑस्टियोपोरोसिस की जांच जरूर करानी चाहिए. हाई ब्‍लड प्रेशर एक इनफ्लेमेटरी बीमारी है जो शरीर में सूजन की परेशानी को बढ़ा सकती है.

साइलेंट किलर है हाई ब्‍लड प्रेशर
हाई ब्‍लड प्रेशर के खतरे को देखते हुए इसे साइलेंट किलर भी कहा जाता है. वयस्‍कों में सामान्‍य ब्‍लड प्रेशर 120/80 एमएमएचजी से 90/60 एमएमएचडी के बीच होना चाहिए. अगर ब्‍लड प्रेशर 140/90एमएमएचजी है तो इसे मध्‍यम ब्‍लड प्रेशर माना जाता है, वहीं 180/110 एमएमएचजी को गंभीर हाई ब्‍लड प्रेशर कहा जाता है. हाई ब्‍लड प्रेशर शरीर के लिए काफी घातक होता है और इससे कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं.

मसल्स बनाने के लिए इन हेल्दी फूड्स की लें मदद आगे देखें…

ऐसे करें ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को कम
नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ हेल्‍थ के मुताबिक ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को कम करने के लिए निम्‍नलिखित कदम उठाए जा सकते हैं:
– नियमित रूप से शरीर को एक्टिव रखें
– डेली कुछ एक्‍सरसाइज करें
– शराब और सिगरेट से परहेज करें
– भोजन में कैल्शियम और विटामिन रिच फूड को शामिल करें

यह भी पढ़ें- तनाव घटाने और एडीएचडी के असर को कम करने का काम करती है मेंटल एक्सरसाइज, इसके बारे में जानें

यह भी पढ़ें- दिन भर के स्ट्रेस से मुक्ति पाने के लिए ताड़ासन के साथ करें ये योगाभ्यास

हाई ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए उठाएं ये कदम:
– दिन में 6 ग्राम से कम नमक का सेवन करें
– अधिक फाइबर और कम फैट वाले पदार्थों को भोजन में शामिल करें
– साबुत अनाज, ताजे फल और सब्जियां भी ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करते हैं
– मौसम अनुसान प्रतिदिन फल और सब्जियों का खूब सेवन करें

Tags: Health, Lifestyle

Source link

‘Avatar’ के सीक्वल का नया ट्रेलर रिलीज! पेंडोरा की खूबसूरत दुनिया का दर्शकों पर चला जादू

Google ने दिया Gmail यूजर्स को Free गिफ्ट, फोटो और वीडियो के लिए खत्म होगी 15 जीबी स्टोरेज की टेंशन