in

हां, जान भी ले सकती है लौकी, कैसे पता लगाएं कि ये विषैली है

हाल ही में बॉलीवुड की स्क्रिप्ट राइटर और आयुष्मान खुराना की पत्नी ताहिरा कश्यप मरते मरते बचीं. उन्हें लगातार उल्टियां होने लगीं. ब्लड प्रेसर 40 से भी नीचे पहुंच गया. शरीर का सिस्टम जवाब देने लगा. तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया. दो दिनों तक इंटेसिव केयर यूनिट में रखे जाने के बाद हालत सुधर पाई. ऐसा हुआ लौकी का जूस बनाकर पीने से. दरअसल उन्होंने जिस लौकी का सेवन किया था, वो विषैली थी. हां, ये ध्यान रखें कोई लौकी विषैली भी हो सकती है.

अगर लौकी विषैली है तो ये जानलेवा हो सकती है. ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जबकि विषैली लौकी के सेवन से हालत बहुत बिगड़ गई. कई बार ऐसी लौकी के सेवन से मृत्यु भी हो गई. क्या लौकी के सेवन से ऐसी खतरा हो सकता है. डॉक्टरों का कहना है कि ऐसा हो सकता है.

ताहिरा कश्यप के मामले पर देशभर के अखबारों में एक दो दिन पहले ही रिपोर्ट्स पब्लिश हुई हैं. इन रिपोर्ट में कई डॉक्टरों से बात भी की गई. टाइम्स आफ इंडिया ने इस बारे में फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हर्ट इंस्टीट्यूट की चीफ डायटीशियन दलजीत कौर से बातचीत की.

ताहिरा ने इस पूरे मामले को इंस्टाग्राम के जरिए वीडियो बनाकर पोस्ट किया. ताकि लोगों को लौकी को लेकर जागरूकता हो पाए. वह दरअसल रोज खुद ताजी लौकी का जूस पीती हैं. उनका कहना है कि उन्हें उस दिन लौकी का जूस कड़वा लगा. उसके बाद भी उन्होंने इसे पी लिया. यूं तो लौकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है लेकिन स्वाद कसैला लगे तो कभी उसका सेवन मत करें. उसका कसैला टेस्ट बता देता है कि ये लौकी ठीक नहीं है बल्कि विषाक्त हो सकती है.

हाल ही में बॉलीवुड की स्क्रिप्ट राइटर ताहिरा कश्यप ने ताजी लौकी का जूस बनाकर पिया लेकिन ये विषैली थी. इसके उनकी तबीयत बहुत बिगड़ गई. उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाकर आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा (shutterstock)

उल्टियां आने लगेंगी, बीपी तुरंत गिरेगा
इसको पीते ही उनकी हालत बिगड़ने लगी.उसके बाद उन्हें उल्टियां होने लगीं. ब्लड प्रेसर गिरने लगा. उन्होंने बताया कि उन्हें एक दो बार नहीं बल्कि 16 बार उल्टियां आईं. आईसीयू में जब उन्हें रखा गया तो उनकी हालत काफी नाजुक थी, जो धीरे धीरे सुधरी. डॉक्टरों का कहना है कि विषैली लौकी किसी साइनाइड से कम नहीं होती.

कुकरबिटासिन के कारण विषैली हो जाती है लौकी
फोर्टिस हास्पिटल की चीफ डायटीशियन दलजीत कौर का कहना है कि कई बार लौकी विषैली हो सकती है, जिसे हममे से कई लोग नहीं समझ पाते और इसको खा लेते हैं. विषैली लौकी में अगर कुकरबाइट्स, जिसे कुकरबिटासिन भी कहते हैं, अगर है तो वो कतई सुरक्षित नहीं है. इसका पता लौकी के कड़वे या कसैले स्वाद से लग सकता है.

उल्टी, दस्त भी शुरू हो सकते हैं
इसे लेते ही ये तेजी से रिएक्शन कर सकती है. फिर उल्टी, दस्त, खूनी उल्टी शुरू हो सकती है. ब्लड प्रेसर यकायक गिर जाएगा और शरीर निढाल पडने लगेगा. शरीर में जहर फैलने लगता है. अगर तुरंत इलाज नहीं मिला तो लिवर-किडनी भी फेल हो सकती है. इसलिए लौकी के सेवन में बहुत सावधानी भी बरतने की जरूरत है.

लौकी में कभी कभी कुकरबिटासिन नाम का जहरीला केमिकल डेवलप हो जाता है. ये बहुत विषैला होता है और लौकी के स्वाद को कसैला कर देता है. (photo-shutterstock)

क्या कहती है आईसीएमआर की रिसर्च 
इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की एक रिसर्च कहती है कि स्वाद में कड़वी लगने वाली लौकी जहर की तरह होती है, जो किसी की भी जान ले सकती है. इसे लेकर हमने कुछ विशेषज्ञों और रिपोर्ट्स की मदद ली. सवाल और जवाब में समझें लौकी के विषैलेपन और सावधानियों के बारे में

आखिर क्या वजह होती है कि सेहतमंद लगने वाली लौकी जानलेवा हो जाती है?
– हालांकि ये बहुत कम होता है लेकिन कुछ लौकियों में विषैला केमिकल आ जाता है. इसे कुकरबिटासिन कहते हैं. इसे कैसे आता है, इसके बारे में कुछ पक्का भी नहीं कह सकते. लेकिन अगर आपने इसका सेवन कर लिया तो ये शरीर के अंदर जाते ही 5 मिनट के अंदर असर दिखाने लगता है. इसका जहर शरीर में फैलने लगता है. ये केमिकल लिवर और किडनी सहित जहां-जहां बॉडी में जाता है वहां ऑर्गन को फेल कर सकता है.

क्या हर लौकी खतरनाक हो सकती है?
– नहीं ऐसा नहीं है. ये जहरीला केमिकल बहुत दुर्लभ ही किसी लौकी में पनप जाता है. लेकिन अगर लौकी के स्वाद को जांचेंगे तो पता लग जाएगा कि लौकी खाने लायक नहीं है.

लौकी में विषैले तत्व को पहचानने का तरीका यही है कि इसे कच्चा तुरंत काटकर चख जरूर लें. अगर ये कसैली या कड़वी लगती है तो इसका सेवन कतई नहीं करें. (photo-shutterstock)

लौकी में ये विषैला तत्व क्या दवाइयों के छिड़काव के कारण बनता है या अपने आप?
– लौकी कई बार अपना डिफेंस सिस्टम विकसित कर लेती है, जिसके फलस्वरूप लौकी में ये केमिकल विकसित हो जाता है. ये पैदावार के समय भी हो सकता है. स्टोरेज में रखने के दौरान तापमान में बदलाव के कारण भी. कभी कभी लौकी को पर्याप्त पानी नहीं मिलने से भी ऐसा हो जाता है.

कड़वी लौकी की पहचान कैसे की जा सकती है?
– रिसर्च कहती है कि केवल चखकर ही इसकी पहचान हो सकती है. खरीदते समय या घर लाकर लौकी को काटकर चखें. कई बार इसे पका भी लेते हैं तो इसका टेस्ट में कड़वापन बरकरार रहेगा. अगर ये कड़वी लगती है तो तुरंत इसे थूक दें. इसका सेवन खतरनाक है.

बाजार लौकी के जूस मिलते हैं, वहां कैसे पहचान हो सकती है?
वहां भी इसके चखना पड़ेगा. अगर घूंट कड़वा लगे तो तुरंत थूक दें. यही एकमात्र तरीका है कि आप विषैली लौकी की पहचान कर सकते हैं

अगर इसे पका लिया जाए तो क्या कड़वापन खत्म हो जाएगा?
– नहीं. पकाने के बाद भी इसका कड़वापन बना रहेगा. और विषैला तत्व भी लौकी में बना रहेगा.

अगर इसका सेवन कर लिया गया तो क्या करें?
– ऐसी कड़वी लौकी का सेवन करने के कुछ मिनट में ही आप ब्लड प्रेशर, बेचैनी, घबराहट महसूस करेंगे. उल्टी होने लगेगी. ऐसे में तुरंत डॉक्टर के पास जाएं. उसे जरूर बता दें कि आपने लौकी का सेवन किया है. अगर आपने कम मात्रा में इसका सेवन किया है, जो खतरा कम रहेगा लेकिन अगर ज्यादा सेवन कर लिया है तो खतरा भी उतना ही बढ़ जाएगा.ऐसे ही मामलों में कुछ मौत भी हो चुकी है. कई बार अंग के कुछ हिस्सों पर इसका असर स्थायी तौर पर भी देखा गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

सामने आया हैकिंग का डरावना पहलू, इस शहर में एक हैकर ने की 15 हजार लोगों को जहर देने की कोशिश

Kbc 13 hussain vohra could not answer this question of rupees 50 lakh do you know the answer nodkp