in

‘4-7-8’ ब्रीदिंग तकनीक से रात में नींद ना आने की समस्‍या हो सकती है दूर, जाने इसे करने का तरीका

हाइलाइट्स

यह तकनीक आपके दिमाग और सांस को कंट्रोल करती है.यह अभ्‍यास यौगिक टेक्नीक प्राणायाम पर आधारित है.

Breathing Technique For Better Sleep: वैसे तो एंग्‍जायटी और नींद की समस्‍या को दूर करना गिनती गिनने की तरह आसान नहीं होता, लेकिन कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि ‘4-7-8’ तकनीक की मदद से आप तनाव का दूर कर सकते हैं और साथ ही साथ, नींद ना आने की समस्‍या को भी दूर कर सकते हैं. दरअसल, स्‍ट्रेस से भरी दुनिया में सोते वक्‍त भी लोग एंग्‍जायटी और तनाव से जूझते रहते हैं जिसकी वजह से रात की नींद काफी डिस्‍टर्ब होती है. ऐसे में अगर आप अपने ब्रीदिंग को कंट्रोल करें और सांस लेने की तकनीक में बदलाव लाएं तो नींद ना आने की समस्‍या को दूर कर सकते हैं.
हेल्‍थ के मुताबिक, इसे अमेरिका के एरिजोना यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक डॉ. एंड्रयू वेल ने तैयार किया है जो प्राणायाम पर आधारित है. यह तकनीक एक रिलैक्‍सेशन एक्‍सरसाइज है जिसमें 1 से 4 की गिनती तक सांस लेना, सांस रोक कर 1 से 7 तक गिनना, फिर सांस छोड़ते हुए 1 से 8 तक गिनने का अभ्‍यास किया जाता है.

इस तरह करें 4-7-8 तकनीक का अभ्‍यास
–सबसे पहले किसी आरामदायक स्थिति में बैठ जाएं या लेट जाएं.
-फिर मुंह और आंख को बंद कर लें. अब मन ही मन 1 से 4 तक की गिनती धीरे धीरे गिनें और नाक से गहरी सांस लें.
-अब रिलैक्‍स रहते हुए 7 सेकेंड तक सांस को होल्‍ड कर रखें.
-अब होठों को गोल करते हुए सांस छोड़ें और 8 सेकेंड तक सांस को बाहर निकालते रहें.

4-7-8 तकनीक के फायदे
यह तकनीक आपके दिमाग और सांस को कंट्रोल करती है. इसके अलावा, शोधों में पाया गया कि जो लोग इस ‘4-7-8’ ब्रीदिंग तकनीक का रेग्‍युलर अभ्‍यास किए उन्‍हें देर तक जागे रहने की समस्‍या, रात में तनाव महसूस होना, एंग्‍जायटी, मन भारी लगना जैसी समस्‍याओं में काफी आराम महसूस हुआ. यही नहीं, जिन लोगों में दिन में दो बार इसका अभ्‍यास किया, उन्‍हें अधिक फायदा मिला.

इसे भी पढ़ें: आंखों की रोशनी बढ़ाना चाहते हैं तो सिर्फ इस तकनीक को अपनाकर देखें, होगा जबरदस्त लाभ

कैसे करता है काम
मनोचिकित्सा और न्यूरोलॉजी के प्रोफेसर और मिशिगन विश्वविद्यालय में मिशिगन मेडिसिन में व्यवहारिक नींद चिकित्सा कार्यक्रम के निदेशक डॉ. टोड अर्नेड के मुताबिक, रात में सोते वक्‍त हम अपनी छाती से सांस लेते हुए बहुत छोटी और तेज सांसें लेते हैं जो स्वास्थ्य को प्रभावित करता है. जबकि 4-7-8 तकनीक का अभ्‍यास आपको अपने पेट से और आपके डायफ्राम से सांस लेने के लिए पुनर्निर्देशित करता है और सकारात्मक शारीरिक प्रतिक्रियाओं की एक पूरी मेजबानी करता है जो श्वास से होते हुए आपको आराम की स्थिति में ले जाने में मदद करती है.

इसे भी पढ़ें: फाइबर डायबिटीज को कंट्रोल करने में किस तरह करता है मदद, जानिए

Tags: Health, Lifestyle

Source link

ट्विंकल खन्ना ने धनतेरस पर अक्षय कुमार के साथ शेयर की खूबसूरत PHOTO, बताया साल का बेस्ट टाइम

सारा अली खान-कार्तिक आर्यन फिर आए साथ, दिवाली पार्टी में देखे गए दोनों- देखें PHOTO