in

Asthma Flare-UP: क्या है अस्थमा फ्लेयर-अप? जानें इसके नुकसान और कंट्रोल करने के उपाय

हाइलाइट्स

अस्थमा फ्लेयर अप होने पर आपको सांस लेने में कठिनाई, छाती में तेज दर्द महसूस होता है.फ्लेयरअप से बचने के लिए आप अपना इनहेलर और स्पेशर हमेशा अपने पास रखें.

How to preventing an asthma: अस्थमा बीमारी के बारे में आपने जरूर अपने आस पास के लोगों से सुना है. अस्थमा की बीमारी फेफड़ों में जाने वाले वायुमार्ग की एक सूजन संबंधी बीमारी है. अस्थमा से पीड़ित मरीज को सांस लेने में दिक्कत होती है. एक रिपोर्ट के मुताबिक करीब 25 मिलियन अमेरिकियों को अस्थमा है. अस्थमा सांस की एक गंभीर बीमारी हैं इसलिए इसके लक्षण को समझना जरूरी है.

अगर आपके परिवार में किसी को अस्थमा है तो आप अस्थमा फ्लेयर-अप को अच्छे समझ सकते हैं. किड्स हेल्थ के अनुसार कुछ ऐसी स्थितियां जो आपके अस्थमा को तेजी से बढ़ावा देती हैं और इससे अस्थमा के लक्षण भी बिगड़ जाते हैं. अस्थमा फ्लेयर अप होने पर आपको सांस लेने में कठिनाई, छाती में तेज दर्द, सांस लेते समय सीटी जैसी आवाज निकलना, खांसी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं.

अस्थमा फ्लेयर-अप का कारण
फ्लेयरअप इसलिए होता है क्योंकि हमारे फेफड़ों में हवा जाने वाले वायु मार्ग में सूजन आ जाती है और हवा का प्रवाह रुक रुक कर होने लगता है. फेफड़ों में धारा प्रवाह हवा नहीं जाने से सांस लेने में संघर्ष करना पड़ता है. कई बार बलगम बनने से भी वायुमार्ग बंद हो जाता है और साथ ही वायुमार्ग के आसपास की मांसपेशियां कसने से मार्ग भी संकरा हो जाता है.

अस्थमा रोगी और बच्चों के लिए हानिकारक है पटाखों का धुंआ, इन प्वाइंट्स में जानें बचाव के तरीके

फ्लेयर-अप को रोकने के तरीके

अस्थमा फ्लेयरअप से निपटने के लिए कुछ नियम बनाने पड़ेंगे. आपको नियमित रूप से एक्सपर्ट के द्वारा दी गई दवा लेनी होगी.

आप अपना इनहेलर और स्पेशर हमेशा अपने पास रखें

उन चीजों और ऐसी स्थितियों से दूर रहें जिनसे अस्थमा ट्रिगर होता है. जैसे तंबाकू का धुंआ, ठंडी हवा, पालतू जानवरों की रूसी. आप डेयरी प्रोडक्ट को भी कम इस्तेमाल करें.

अस्थमा एक्शन प्लान को ठीक से फॉलो करने के लिए अपने माता-पिता और डॉक्टर के साथ मिलकर काम करें.

अस्थमा फ्लेयर-अप होने पर क्या करें
अगर आपको ऐसा लगता है कि अस्थमा फ्लेयर-अप होने वाला है तो आप लोगों से मदद लें. अपने आस-पास के लोगों को बताएं की आप क्या महसूस कर रहे हैं और फिर अपना अस्थमा एक्शन प्लान फॉलो करें. फ्लेयरअप के दौरान आप एक्सपर्ट की बताई दवा लेना न भूलें.

सबसे जरूरी है कि किसी भी तरह से आप फ्लेयरअप को नजरअंदाज न करें. फ्लेयर-अप के दौरान अपने को तनाव की स्थिति से बचाएं. तनाव होने से सांस लेने में आपको और दिक्कत महसूस होगी.

Tags: Health, Lifestyle

Source link

Shweta Tiwari Birthday: नशीली आंखें, बेहतरीन प्रतिभा और जिंदगी की हर कसौटी पर उतरीं खरी श्वेता तिवारी

Bhojpuri Song: रितेश पांडे ने नेहा राज के साथ मचाया धमाल, यूट्यूब पर ट्रेंड कर रहा एक्टर का नयका गाना