in

Diabetic finger stiff: हाथों की उंगलियां भी हो जाती हैं लॉक? तो हो जाइये सावधान; इस बीमारी के हैं लक्षण

हाइलाइट्स

डायबिटीज के मरीजों में शुगर का स्तर यदि 200 mg/dL से ज्यादा हो जाए तो इसका असर हाथों पर दिखने लगता है. इस बीमारी से छुटकारा पाने के लिए ब्लड शुगर को कम करना जरूरी है.

Hand lock in diabetes: डायबिटीज आज दुनिया की बहुत बड़ी समस्या है. इसके कारण हार्ट, ब्लड वेसल्स, आंखें, किडनी और नर्व से संबंधित कई तरह की बीमारियां हो सकती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक दुनिया भर में 42.2 करोड़ लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं. इनमें भारत में अच्छी खासी संख्या है. दरअसल, जब खून में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ने लगती है तो डायबिटीज की बीमारी होती है. इस बीमारी में पैंक्रियाज इंसुलिन का उत्पादन कम करने लगता है या फिर बंद कर देता है जिससे ब्लड में शुगर का स्तर तेजी से बढ़ने लगता है. ब्लड में शुगर का स्तर बढ़ने को हाइपरग्लाइकेमिया कहा जाता है. डायबिटीज के मरीजों में शुगर का स्तर यदि 200 mg/dL से ज्यादा हो जाता है तो इसका असर हाथों पर दिखने लगता है. कुछ डायबिटीज के मरीजों में हाथ की उंगलियां पूरी तरह से लॉक हो जाती है यानी हाथ से कुछ काम नहीं कर पाते. इसमें हाथों में असहनीय दर्द की शिकायत बढ़ सकती है. हाथों में स्टिफनेस आ जाती है. इसे डायबेटिक स्टीफ हैंड सिंड्रोम कहते हैं. इसके अलावा इसे डायबेटिक किरोऑर्थोपेथी भी कहा जाता है.

इसे भी पढ़ें- Cancer alert: बालों को मजबूत करने वाले हेयर प्रोडक्ट से महिला को हुआ कैंसर! ठोका मुकदमा

किसे हो सकती है यह बीमारी
ग्लोबल डायबेट्स की वेबसाइट के मुताबिक डॉ रचेल पीटरसन ने बताया कि टाइप 1 डायबिटीज से पीडि़त 8 से 50 प्रतिशत लोगों में यह बीमारी होती है लेकिन टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों में भी डायबेटिक स्टीफ हैंड सिंड्रोम हो सकता है. जिन लोगों को डायबिटीज बहुत ज्यादा दिन से हैं, उन्हें यह बीमारी होने का खतरा ज्यादा है.

इस बीमारी के कारण
इस बीमारी के लिए कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं. पीटरसन ने बताया कि आमतौर पर यह बीमारी तब होती है जब शरीर में ग्लाइकोसाइलेशन बढ़ जाता है. ग्लाइकोसाइलेशन एक प्रक्रिया है. इसमें शुगर के अणु प्रोटीन के अणु से चिपकने लगते हैं. इससे स्किन में कोलेजन बनने लगता है और डायबेटिक स्टिफ हैंड सिंड्रोम को बढ़ा देता है.

इलाज क्या है
इस बीमारी से छुटकारा पाने के लिए ब्लड शुगर को कम करना जरूरी है. इसके अलावा कुछ खास किस्म की टेक्निक है जिसकी मदद से स्टीफ हैंड सिंड्रोम को ठीक किया जा सकता है. इसके लिए कुछ एक्सरसाइज भी है. यदि दोनों हाथों की स्किन और ज्वाइंट एक-दूसरे को टच नहीं कर सकते हैं, या उंगलियों और हथेलियों के बीच गैप है, तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए. वैसे इसके लिए गेंद को कैच करना अच्छी एक्सरसाइज है.

Tags: Diabetes, Health, Health tips, Lifestyle, Trending news

Source link

Anuradha Paudwal B’day: जब बॉलीवुड में छा गई थीं अनुराधा पौडवाल, लता मंगेशकर का डोलने लगा था सिंहासन!

सौम्या टंडन को जब उनकी बिल्डिंग के गार्ड भी नहीं पहचानते थे, एक्ट्रेस ने सुनाया दिलचस्प किस्सा