in

Diwali Burn First Aid & Care: दिवाली पर जल जाएं तो क्या होनी चाहिए फर्स्ट एड? डॉक्टर्स से जानें सेफ्टी टिप्स

हाइलाइट्स

पटाखों से जलने के बाद टूथपेस्ट या हल्दी नहीं लगानी चाहिए.अस्थमा के मरीजों को पॉल्यूशन से हर हाल में बचना चाहिए.

Diwali Burn First Aid & Care: दिवाली पर बड़ी संख्या में लोग पटाखे चलाकर एंजॉय करते हैं, लेकिन कई बार पटाखों की चपेट में आकर लोग जल भी जाते हैं और उनके शरीर पर घाव हो जाते हैं. त्योहार के वक्त ऐसे तमाम केस सामने आते हैं. सावधानियों के बावजूद कुछ गलतियों की वजह से लोग इन घटनाओं का शिकार हो जाते हैं. अब सवाल उठता है कि अगर कोई दिवाली पर पटाखे चलाते वक्त जल जाए तो फर्स्ट एड क्या होनी चाहिए. जलने के तुरंत बाद व्यक्ति को क्या करना चाहिए ताकि स्थिति गंभीर ना हो. आज एक्सपर्ट पैनल से जानेंगे कि पटाखों या दीया से जलने की स्थिति में लोगों को क्या करना चाहिए. दिवाली पर अत्यधिक पॉल्यूशन होने पर अस्थमा के मरीजों और बच्चों को क्या सावधानियां बरतनी चाहिए. इसके अलावा यह भी जानेंगे कि पेट एनिमल्स का ख्याल कैसे रखा जाए.

पटाखों से जलने पर क्या हो फर्स्ट एड?
नई दिल्ली के सर गंगाराम हॉस्पिटल के प्लास्टिक एंड कॉस्मेटिक सर्जन डॉ. रमन शर्मा के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति पटाखों से जल जाए तो जली हुई जगह को पानी से अच्छी तरह धो लेना चाहिए. इसके बाद जलने वाली कोई क्रीम या एंटीसेप्टिक क्रीम लगाई जा सकती है. फर्स्ट एड के बाद सभी को डॉक्टर से संपर्क करके प्रॉपर ट्रीटमेंट कराना चाहिए ताकि जलने के निशान ना रहें. अगर कोई ज्यादा जल जाए तो ऐसी कंडीशन में उस व्यक्ति के कपड़े काटकर अलग कर देने चाहिए और जली हुई जगह को अच्छी तरह धोकर साफ चादर लपेट लेना चाहिए. इसके बाद तुरंत हॉस्पिटल ले जाना चाहिए. कई बार पटाखों की वजह से लोगों के हाथ या पैर डैमेज हो सकते हैं, इसलिए खतरनाक पटाखे ना चलाएं.

यह भी पढ़ेंः दिवाली पर डेकोरेशन और पटाखे चलाते वक्त बरतें ये सावधानियां, नहीं होगा हादसा

टूथपेस्ट और हल्दी बिल्कुल ना लगाएं
डॉ. रमन शर्मा कहते हैं कि अधिकतर लोग जलने पर तुरंत टूथपेस्ट या हल्दी लगा लेते हैं लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए. ऐसा करने से जलने वाली जगह अच्छी तरह दिखाई नहीं देती है और वहां पर गंदगी भी जमा हो जाती है. इससे इंफेक्शन बढ़ने का खतरा रहता है. इसके अलावा लोगों को दिवाली पर फिटिंग के कपड़े पहनने चाहिए और ज्यादा लूज कपड़े नहीं पहनने चाहिए. कई बार लूज कपड़ों में दीया या मोमबत्ती से आग लग जाती है और लोगों को पता ही नहीं चलता. कपड़ों को लेकर सावधानी जरूरी है.

यह भी पढ़ेंः उलझन करें दूर, जानें धनतेरस, दिवाली, गोवर्धन और भाई दूज की सही तारीख

दिवाली पर अस्थमा के मरीज क्या सावधानी बरतें?
नई दिल्ली के मूलचंद हॉस्पिटल के पल्मनोलॉजिस्ट डॉ. भगवान मंत्री के मुताबिक दिवाली से पहले अस्थमा के मरीजों को अपने डॉक्टर से मिलकर कंसल्ट जरूर कर लेना चाहिए. कई बार ज्यादा पॉल्यूशन होने पर ऐसे मरीजों की दवाओं में बदलाव किया जाता है ताकि उनकी कंडीशन ना बिगड़े. दिवाली के दौरान पॉल्यूशन होने पर अस्थमा के मरीजों को घर के अंदर रहना चाहिए और बाहर जाते वक्त मास्क जरूर लगाना चाहिए. जिन जगहों पर ज्यादा पॉल्यूशन हो वहां जाने से बचना चाहिए और अपनी दवाइयां समय से लेनी चाहिए. अगर किसी तरह की दिक्कत हो या अस्थमा का अटैक आए तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर इलाज कराना चाहिए. सभी पैरेंट्स को बच्चों का भी खास ख्याल रखना चाहिए.

पेट एनिमल्स का कैसे रखें ख्याल?
नई दिल्ली के हैरी पेट्स क्लिनिक एंड सर्जरी सेंटर के डॉ. हरअवतार सिंह के मुताबिक दिवाली के दौरान पटाखों की आवाज से पेट एनिमल्स काफी परेशान हो जाते हैं. सभी लोगों को कोशिश करनी चाहिए कि इन एनिमल्स के आसपास पटाखे ना चलाएं. डॉग को दिवाली के वक्त घर के अंदर रखना चाहिए. उन्हें अकेला नहीं छोड़ना चाहिए, ऐसा करने से पेट्स डर जाएंगे. पटाखों की तेज आवाज से पेट्स एंजाइटी का शिकार हो जाते हैं, इससे बचाने के लिए उन्हें हाइड्रेटेड रखना चाहिए. अगर पेट्स को कोई परेशानी हो तो संबंधित डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. इसके अलावा दिवाली पर पेट्स को मिठाई नहीं खिलानी चाहिए, इससे उनकी तबीयत खराब हो सकती है. इसका ध्यान सभी लोगों को रखना चाहिए.

Tags: Diwali, Diwali Celebration, Diwali festival, Health, Lifestyle, Trending news

Source link

VIDEOS: कैटरीना कैफ से रकुल प्रीत सिंह तक, देखें कैसा हो पार्टनर के साथ दिवाली लुक

ITBP में एएसआई के पदों पर निकली भर्ती, जानें योग्यता | itbp recruitment 2022 recruitment for the posts of asi