in

End of corona: क्या कोरोना महामारी के रूप में खत्म हो गया है? 100 देशों के एक्सपर्ट इस नतीजे पर पहुंचे

हाइलाइट्स

पैनल ने अभी भी नई तकनीकी पर आधारित फुलप्रूव वैक्सीन विकसित करने पर जोर दिया है.लगभग सौ देशों के मल्टीडिसीप्लीनरी पैनल के एक्सपर्ट ने छह व्यापक विषयों की पहचान की है

End of corona: पिछले तीन साल से कोरोना के कहर ने हजारों जिंदगियां तबाह कर दी. लाखों लोगों के जीवन में सन्नाटा पसर गया. दुनिया के रुख को मोड़ दिया. पर अब भी कोरोना का अंत होगा या नहीं, यह किसी को पता नहीं. हालांकि पिछले कुछ समय से कोरोना का प्रकोप कम है और ऐसा लग रहा है कि कोरोना का अंत नजदीक आ गया लेकिन जैसे ही हम इस खुशफहमी को पालते हैं वैसे ही विश्व के किसी न किसी कोने में कोरोना अपना रंग दिखाने लगता है. ऐसे में विशेषज्ञ के लिए यह कोरोना के अंत की भविष्यवाणी करना चुनौती है. एनडीटीवी के मुताबिक एक्सपर्ट इस बात पर तो सहमत नहीं है कि कोरोना का अंत हो गया है लेकिन लगभग इस बात पर सहमत है कि सार्वजनिक जोखिम के लिहाज से कोरोना का अंत हो गया है. हालांकि अब भी एक्सपर्ट ने सरकारों को आगाह किया है कि कोरोना को खत्म करने के लिए अभी कई कदम उठाने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें- भारत में बनी दवा का लोहा अमेरिकी वैज्ञानिकों ने भी माना, कोरोना से हुए हार्ट डैमेज को ठीक करने में बेहद कारगर

दुनिया भर की सरकारों को कदम उठाने को कहा
लगभग सौ देशों के मल्टीडिसीप्लीनरी पैनल के एक्सपर्ट ने छह व्यापक विषयों की पहचान की है जिनकी बदौलत अब भी कोरोना से होने वाली मौतों को कम किया जा सकता है. इसके लिए लगातार प्रयास की जरूरत है. इनमें सरकारों से सोसाइटी तक कई माध्यमों से पहुंचने के लिए कहा गया है ताकि कोरोना की स्थिति की नियमित समीक्षा और हेल्थ सिस्टम को मजबूत करने पर बल दिया जा सके. कोरोना के इलाज के साथ ही अब भी कोरोना की वैक्सीन लगाने पर जोर दिया गया है. पैनल ने अभी भी नई तकनीकी पर आधारित फुलप्रूव वैक्सीन विकसित करने पर जोर दिया है. पैनल के एक्सपर्ट ने अपने अध्ययन के आधार पर दुनिया भर की सरकारों को यह सलाह दी है. इस अध्ययन को नेचर जर्नल में प्रकाशित किया गया है.

अब तक 65 लाख लोगों की मौत
अक्टूबर 2022 तक 63 करोड़ लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं और इनमें से 65 लाख लोगों की मौत हो चुकी है. इसके साथ कैंसर, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज सहित कई क्रोनिक बीमारियों के मरीजों को कोरोना के कारण इलाज कराने में दिक्कत हुई जिनमें कुछ की मौत भी हो गई. कोरोना के कारण कई क्रूर सच्चाइयां भी सामने आई जिनमें अफवाहों का बोलबाला, वैक्सीन लेने में हिचक, वैश्विक समन्वय में कमी और कोरोना की सुविधाओं के समान वितरण में भारी कमी देखी गई.

Tags: Corona, COVID 19, Health, Lifestyle

Source link

आलिया-रणबीर कपूर का नया आशियाना बनकर तैयार, इसी घर में होगा कपूर प्रिंसेस का खास वेलकम

वे 10 आम लोग जिन्हें सोशल मीडिया ने रातोंरात बना दिया था स्टार, आप हो सकते हैं अगले