in

Hindi Diwas 2022: हर साल क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस? जानें कब हुई थी शुरुआत

हाइलाइट्स

हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है. शुरुआत 1953 में हुई थी.हिंदी के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल हिंदी दिवस मनाया जाता है.

Hindi Diwas 2022, History And Significance: हिंदी भारत ही नही बल्कि पूरे विश्व में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाओं में शुमार है. हिंदी भाषा से भारत देश की पहचान और सम्मान है. भारत के हर हर कोने में भले ही हिंदी भाषा बोली नही जाती है लेकिन इसका सम्मान भारत का हर नागरिक सच्चे मन से करता है. हमारा देश भारत विविधता में एकता का प्रतीक है, जिसमें 22 अलग-अलग भाषाएं बोली जाती हैं. इन्हें संजोकर रखने का काम हिंदी भाषा करती है. अपनी मातृभाषा की विशेषता को पूरी दुनिया में पहुंचाने के लिए हिंदी दिवस मनाया जाता है. आजादी के बाद साल 1953 में 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मानने की घोषणा की गई थी. आज आपको हिंदी दिवस के बारे में कुछ रोचक बातें बताएंगे.

यह भी पढ़ेंः महान लोगों ने समझाया ‘हिंदी भाषा’ का महत्व, पढ़ें ये मशहूर कथन

क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस?
14 सितंबर 1949 में हिंदी को राष्ट्रभाषा नहीं बल्कि भारत की राजभाषा का दर्जा प्राप्त हुआ था. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है, लेकिन भारत में 1953 से लेकर हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है. दुनिया में अंग्रेजी के बढ़ते चलन को ध्यान में रखते हुए हिंदी की अहमियत को याद दिलाने के उद्देश्य से हिंदी दिवस मनाया जाता है.

ऐसे हुई थी शुरुआत
भारत में आजादी के बाद संविधान सभा के द्वारा देवनागरी लिपि में लिखी हुई हिंदी को पूरे देश में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा के रूप में भारत की राजभाषा का दर्जा दिया गया. भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल लाल नेहरू ने 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाएं जाने की घोषणा की और पहला 1953 में पहला हिंदी दिवस मनाया गया.

यह भी पढ़ेंः हिंदी दिवस पर बच्चों को ऐसे समझाएं अपनी मातृभाषा की अहमियत

कैसे मनाएं हिंदी दिवस?
हिंदी दिवस को मनाने के लिए आपको उसका उद्देश्य जानकर अपने आसपास मातृभाषा हिंदी के प्रति लोगों और खासकर नई जेनरेशन के बच्चों को जागरूक करना चाहिए. हिंदी दिवस पर स्कूल, कॉलेज और दफ्तरों में कार्यक्रम आयोजित करना चाहिए ताकि हिंदी की अहमियत को समझा जा सके और अपने देश के इतिहास को याद किया जा सके.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Hindi, Hindi Diwas, Lifestyle

Source link

देश के सबसे खास क्लब में होगा ऋचा चड्ढा और अली फजल का रिसेप्शन, 37 साल के इंतजार के बाद मिलती है मेंबरशिप

‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ फेम शिवांगी जोशी की होने वाली है ‘अनुपमा’ में एंट्री? जानें क्या है सच