in

आँखों में बसाया है तो रखना संभाल कर , कहीं बह न जाऊँ मैं काजल की तरह ,,

नर्म नाजुक किसी मखमल की तरह ,
इधर उधर फिरते हुए बादल की तरह ,,
आँखों में बसाया है तो रखना संभाल कर ,
कहीं बह न जाऊँ मैं काजल की तरह ,,

What do you think?

1000 points
Upvote Downvote
Kriti Sanon

Mar Jaoonga Uski Ek Muskurahat Ke Liye Koi Ek Baar To Mujhpe Aitbaar Kare.

Itna Yaad Mat Karo Mujhe E Mere Dost, Hichkiyo Se Meri Jaan Nikal Aayi Hai!! :)