in

Humidifier एयर पॉल्यूशन से बचाने में कारगर नहीं, जानें किन कंडीशन में किया जाता है इस्तेमाल

हाइलाइट्स

ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल एयर में मॉइस्चर एड करने के लिए होता है.इसका इस्तेमाल एयर पॉल्यूशन से बचने के लिए नहीं किया जा सकता है.

Humidifier And Air Pollution: इन दिनों वायु प्रदूषण इतना ज्यादा बढ़ गया है कि लोग इससे बचने के लिए अलग-अलग तरीके अपना रहे हैं. कोई अपने घर में एयर प्यूरीफायर लगवा रहा है, तो कोई पोर्टेबल एयर प्यूरीफायर गले में डालकर घूम रहा है. इस बीच कुछ लोग ह्यूमिडिफायर (Humidifier) को लेकर चर्चा कर रहे हैं. कई लोगों को लगता है कि एयर पॉल्यूशन से बचाने में ह्यूमिडिफायर कारगर साबित हो सकता है. इसे लेकर तमाम लोग कंफ्यूज भी हैं और वे यह जानना चाहते हैं कि ह्यूमिडिफायर क्या है और इसका इस्तेमाल किन कंडीशन में किया जाता है. इससे हेल्थ को क्या फायदे होते हैं. सवालों के जवाब एक्सपर्ट से जान लेते हैं.

यह भी पढ़ेंः Air Pollution से बचाने में कितने कारगर हैं एयर प्यूरीफायर? एक्सपर्ट से जानें

क्या होता है ह्यूमिडिफायर?

नई दिल्ली के मूलचंद हॉस्पिटल के पल्मनोलॉजिस्ट डॉ. भगवान मंत्री के मुताबिक ह्यूमिडिफायर एक डिवाइस होती है, जिसका इस्तेमाल कमरे के अंदर हवा में नमी (Moisture) एड करने के लिए किया जाता है. हवा में ह्यूमिडिफायर मॉइस्चर एड करके ड्राइनेस खत्म कर देता है. हवा में जब नमी हो जाती है तो उसमें मौजूद बड़े कण सस्पेंडेड हो जाते हैं. हालांकि यह एयर को क्लीन नहीं करता. इसका काम सिर्फ मॉइस्चर एड करना होता है. आमतौर पर इसका इस्तेमाल स्किन या नेजल ड्राइनेस की समस्या से जूझ रहे लोग करते हैं. ह्यूमिडियफायर का इस्तेमाल संभलकर करना चाहिए. इसका अत्यधिक इस्तेमाल नुकसानदायक हो सकता है. हवा में ज्यादा नमी होने पर हार्मफुल बैक्टीरिया ग्रो हो सकते हैं. आमतौर पर ह्यूमिडिटी 30 से 50 के बीच होनी चाहिए. इसे हाइग्रोमीटर से पता कर सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः Air Pollution से याददाश्त हो सकती है कमजोर, डिप्रेशन का बढ़ता है खतरा

क्या एयर पॉल्यूशन से बचाता है ह्यूमिडिफायर?

डॉ. भगवान मंत्री कहते हैं कि ह्यूमिडिफायर का एयर पॉल्यूशन से डायरेक्ट कोई कनेक्शन नहीं होता है. इसे एयर प्यूरीफायर नहीं माना जा सकता. यह हवा में नमी बढ़ाकर बड़े पॉल्यूटेंट्स को नीचे बिठा देता है, लेकिन प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण PM 2.5 कण होते हैं, जो बेहद छोटे होते हैं. इन खतरनाक कणों पर ह्यूमिडिफायर का कोई असर नहीं होता. एयर पॉल्यूशन से बचाने में यह कारगर साबित नहीं हो सकता. इनडोर पॉल्यूशन से बचने के लिए एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल किया जा सकता है. हालांकि एयर प्यूरीफायर कितने कारगर साबित होते हैं, यह कहना भी मुश्किल है.

किन परेशानियों से बचाता है ह्यूमिडिफायर?

पल्मनोलॉजिस्ट के अनुसार ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल आमतौर पर स्किन ड्राइनेस, नोज ड्राइनेस, नेजल स्टिफनेस, ड्राइ थ्रोट, ड्राइ लिप्स और साइनस की बीमारी में राहत पाने के लिए किया जाता है. जिन लोगों को बार-बार सर्दी, खांसी और अन्य फ्लू हो जाता है, उनके लिए भी यह फायदेमंद होता है. सर्दियों के मौसम में बड़ी संख्या में लोगों को ड्राइ स्किन की समस्या का सामना करना पड़ता है, ऐसे में यह सर्दियों में कई तरह की समस्याओं से बचा सकता है. हालांकि आपको इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए.

Tags: Air pollution, Delhi-NCR Pollution, Health, Lifestyle

Source link

रश्मिका मंदाना ने ट्रोल्स को लगाई फटकार, लिखी लंबी चौड़ी पोस्ट, बोलीं- ‘मेरे रिश्तों के लिए ठीक नहीं है’

Alia Bhatt Baby: आलिया और रणबीर की बेटी की पहली तस्वीर आई सामने सोशल मीडिया पर वायरल हुआ फेक वीडियो