Latest stories

  • Drink For Good Sleep : रात में आएगी अच्छी नींद, अगर सोने से पहले पीएंगे ये स्मूदी

    Drink For Good Sleep : रात में आएगी अच्छी नींद, अगर सोने से पहले पीएंगे ये स्मूदी

    Somendra Singh | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 27 Mar 2020, 09:37:00 PM IST

    रात में सोने के लिए जब आप लेटते हैं और आपको नींद नहीं आती है तो, करवट बदलते-बदलते आपकी रात कट जाती है लेकिन नींद पूरी नहीं होती और सुबह उठने के बाद अधूरी नींद होने के कारण आपको तरह तरह की स्वास्थ्य शिकायत होने लगती है। हालांकि रात में नींद न आने की समस्या को एक स्मूदी से काफी हद तक कम भी किया जा सकता है और आप एक बेहतरीन नींद ले सकते हैं।

    अच्छी नींद आने के लिए आपको सोने से पहले एक स्मूदी बनानी होगी और उसे पीने से आपको रात में अच्छी नींद आ सकती है। तो चलिए बिना देर किए हम आपको इस खास स्मूदी के बारे में बताते हैं और साथ ही साथ इसको घर पर बनाने की विधि के बारे में भी आपको विस्तार से बताया जाएगा।

    क्या है इस ड्रिंक का नाम

    इस ड्रिंक को आप स्मूदी के रूप में पीने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं और इसे बनाने वाली सामग्री भी लॉकडाउन के दौरान आपको बड़ी आसानी से मिल जाएगी। इसे बनाना स्मूदी ड्रिंक कहते हैं जो आपको रात में अच्छी नींद दिला सकता है। इस स्मूदी को बनाने के लिए केला, बादाम और दूध का इस्तेमाल किया जाता है। इनमें नींद को बढ़ाने वाले हार्मोंस को सक्रिय करने का का गुण पाया जाता है है, जिसके कारण जब आप सोने से पहले इसे पीते हैं तो यह नींद वाले हार्मोन को सक्रिय कर देता है और आपको जल्दी ही नींद आने लगती है। वही एक बेहतरीन नींद पाने से ना केवल आप एक स्वस्थ क्वालिटी ऑफ लाइफ का एंजॉय कर सकते हैं बल्कि आप अपनी दिनचर्या […]

    Read More

    378 points
    Upvote Downvote
  • साबुन या सैनिटाइजर, कोरोना वायरस से बचने के लिए दोनों में से क्या है बेहतर

    साबुन या सैनिटाइजर, कोरोना वायरस से बचने के लिए दोनों में से क्या है बेहतर

    भारत में तेजी से कोरोना वायरस (Coronavirus) अपने पैर पसार रहा है। कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में समय-समय पर अपने हाथों को साबुन या सैनिटाइजर से धोकर इस वायरस के खतरे को कम किया जा सकता है। लेकिन उससे पहले ये जानना जरूरी है कि साबुन या सैनिटाइजर में से कोरोना से लड़ने के लिए सबसे मजबूत हथियार क्या है?

    Tripti Sharma | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 27 Mar 2020, 11:49:00 AM IST

    चीन के वुहान शहर में पैदा हुआ कोरोना वायरस अब तक से भी दुनियाभर के कई देशों को अपना शिकार बना चुका है। भारत में भी कोरोना वायरस तेजी से अपने पैर पसार रहा है। देश के चारों कोनों में जारी लॉकडाउन के बीच भी कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अब तक देश में संक्रमण के 724 मामलों की पुष्टि हो चुकी है, जिनमें से 19 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, दुनियाभर में जानलेवा कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की तादाद बढ़कर पांच लाख से अधिक हो गई है और 22,000 से अधिक लोग इस महामारी के चलते दम तोड़ चुके हैं।

    इस जानलेवा वायरस के फैलने के बाद शुरुआत से ही लोगों को साबुन या सैनिटाइजर से हाथ धोने की सलाह दे रहे हैं। COVID-19 से बचने के लिए कुछ लोगों का मानना है कि हैंड सैनिटाइजर-साबुन से बेहतर है। कुछ स्वास्थ्य-विशेषज्ञों का कहना कि कोरोना वायरस से बचने के लिए हाथों का बैक्टीरिया फ्री होना बेहद जरूरी है। इतना ही नहीं, विशेषज्ञों का मानना है कि अपने हाथों को समय-समय पर साबुन से धोकर या हैंड सैनिटाइज़र का इस्तेमाल कर वायरस के खतरे को कम किया जा सकता है। (ये भी पढ़ें: […]

    Read More

    378 points
    Upvote Downvote
  • मुंहासे और गोरेपन के लिए लगाएं पपीते का पैक, घर पर मौजूद सामान से बनाएं स्किनकेयर पैक्स

    Apply papaya pack for acne and whiteness, make skincare packs at home

    दैनिक भास्कर

    Mar 26, 2020, 04:05 PM IST

    लाइफस्टाइफ डेस्क. इन दिनों जब हम सभी अपने-अपने घरों पर बंद हैं और घर से ही सारे काम कर रहे हैं, तो क्यों न हम इस मौके का फायदा अपनी त्वचा को बेहतर करने के लिए करें। बेशक जब आप काम करके घर लौटती हैं तब आपके पास स्किनकेयर करने की ताकत नहीं बचती है, लेकिन अब आप इन DIY (डू इट युर्सेल्फ) फेसपैक लगा कर काम कर सकती हैं….

    टमाटर फेस पैक

    सनटैन और खुले पोर्स के लिए

    टमाटर फेस पैक

    सनटैन को हटाने के लिए टमाटर का गूदा सबसे अच्छा विकल्प होता है और इसका इस्तेमाल ओपन पोर्स के इलाज के लिए भी किया जा सकता है। जब भी आपको समय में, टमाटर के गूदे में उबले हुए आलू के गूदे को मैश करें और इसे अपने चेहरे पर सर्कुलर मोशन में लगाएं और इसे सूखने दें। आप इस पैक में एक बड़ा चम्मच दूध भी मिला सकती हैं। 10 मिनट से ज्यादा समय के लिए इसे न लगाएं और जैसे ही ये पैक सूख जाएगा, फिर इसे ठंडे पानी से धो लें। अधिक फायदे और टैनिंग पूरी तरह से हटाने के लिए इस पैक को रेगुलारी लगाएं।

    पपीता का पैक

    गोरेपन के लिए

    पपीता और केले का पैक

    यदि आप एक प्रभावी होममेड स्किनकेयर पैक की तलाश में हैं, तो त्वचा की चिंताओं से छुटकारा पाने के लिए ये सबसे अच्छा उपाय है। पपीता त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है। गोरी, मुंहासों से मुक्त और साफ त्वचा पाने के लिए पपीते के फेसपैक का इस्तेमाल करें। इसके कोई साइड इफेक्ट नहीं है और ये सन टैन, पिंपल्स, असमान स्किन टोन और सुस्त त्वचा हटाने में मदद करता है। पैक में और गुण मिलाने के लिए इसमें केला […]

    Read More

    423 points
    Upvote Downvote
  • Coronavirus Update In India: डॉक्टरों ने कहा, हंसने वालों से रहें सावधान, कोरोना वायरस से इस कारण हो सकते हैं संक्रमित

    Coronavirus Update In India: डॉक्टरों ने कहा, हंसने वालों से रहें सावधान, कोरोना वायरस से इस कारण हो सकते हैं संक्रमित

    Published By Somendra Singh | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 26 Mar 2020, 12:00:00 PM IST

    कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पूरे भारत में 21 दिन का ब्लॉक डाउन कर दिया गया है जिस कारण पूरे देश की सड़कों पर सन्नाटा छा गया है। यही नहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और सरकार की तरफ से लोगों को इससे बचे रहने के दिशा निर्देश लगातार जारी किए जा रहे हैं। इसी बीच डॉक्टरों ने जोर-जोर से हंसने वालों से बचे रहने के लिए भी एक निर्देश दिया है।

    दरअसल, डॉक्टरों ने कुछ ऐसे मामलों की जांच में यह पाया है कि जोर-जोर से हंसने वाले लोगों के संपर्क में आने वाले लोगों को भी कोरोना वायरस का संक्रमण बड़ी आसानी से हो सकता है और इसके बारे में आपको नीचे पूरी जानकारी दी जा रही है।

    हंसने के कारण कैसे फैल सकता है कोरोनावायरस

    भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research) और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (All India Institute Of Medical Sciences, New Delhi) के डॉक्टरों की एक विशेष टीम के द्वारा ऐसे अध्ययन किए गए जिसमें यह देखा गया कि जोर-जोर से हंसने वाले लोग कोविड-19 का संक्रमण दूसरे तक बड़ी आसानी से पहुंचा सकते हैं।

    डॉक्टरों के द्वारा जारी की गई गाइडलाइन के अनुसार, जब कोई व्यक्ति जोर-जोर से हंसता है तो कभी-कभी उसके मुंह से कुछ ड्रॉपलेट्स भी निकलती हैं जो खांसने और छींकने के दौरान निकलने वाली ड्रॉपलेट्स के समान होती हैं। डॉक्टरों का कहना है कि अगर आप ऐसे लोगों के करीब हैं जो, जोर-जोर से और ठहाके मार कर हंसते हैं तो आपको इनसे सावधान रहने की जरूरत है, क्योंकि अगर ऐसे लोग कोविड-19 से संक्रमित हैं तो इनके द्वारा हवा में छोड़ी […]

    Read More

    423 points
    Upvote Downvote
  • Immunity Booster Drink : रात में सोने से पहले बस 1 गिलास पीएं ये ड्रिंक, मजबूत होगी इम्यूनिटी

    Immunity Booster Drink : रात में सोने से पहले बस 1 गिलास पीएं ये ड्रिंक, मजबूत होगी इम्यूनिटी

    Published By Somendra Singh | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 25 Mar 2020, 08:23:00 PM IST

    हर एक सेहतमंद व्यक्ति के पीछे उसके इम्यून सिस्टम का बहुत बड़ा हाथ होता है। जिसका इम्यून सिस्टम जितना मजबूत होता है व्यक्ति उतना ही कम बीमार पड़ता है। यही वजह है कि लोग अपनी इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए तरह-तरह की डायट का इस्तेमाल करते हैं। एक और जब देश में संक्रमण की तेजी से फैलने की स्थिति बनी हुई है तो, आपको अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए सभी जरूरी उपाय करने चाहिए।

    आप भी अगर अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत करना चाहते हैं तो, हम यहां एक ऐसी ही ड्रिंक के बारे में बताने जा रहे हैं जो आप रात में घर पर भी बना सकते हैं। खास बात यह है कि इस ड्रिंक को बनाने वाली सामग्री भी लॉकडाउन के समय आपको बड़ी आसानी से मिल सकती है तो चलिए बिना देर किए हम आपको इस खास दिन के बारे में बताते हैं।

    क्या है ड्रिंक का नाम

    यह ड्रिंक पालक से तैयार की जाती है, जिसे आप जूस के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। पालक हरी पत्तेदार सब्जियों में प्रमुख स्थान रखती है। खास बात यह है कि इसमें मिनरल्स और पोषक तत्वों की भरपूर मात्रा पाई जाती है। पौष्टिक गुणों से भरपूर होने के साथ ही साथ इसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी कि इम्यून सिस्टम को मजबूत करने का गुण भी पाया जाता है। यदि आप रोजाना सोने से पहले या फिर सुबह उठने के बाद पीने के लिए इस्तेमाल पालक से तैयार की गई ड्रिंक का इस्तेमाल करते हैं तो, इससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हो सकती है और आप कई […]

    Read More

    466 points
    Upvote Downvote
  • Corona से मुकाबले के लिए बनाएं तन-मन को मजबूत, ऐसे करें Kapalbhati

    Corona से मुकाबले के लिए बनाएं तन-मन को मजबूत, ऐसे करें Kapalbhati

    पूरे देश में 21 दिन के लॉकडाउन के जरिए केंद्र सरकार देशवासियों को कोरोना वायरस के प्रकोप से बचाना चाहती है। सरकारी स्तर पर यह सार्स कोरोना वायरस-2 से बचने का सराहनीय कदम है। लेकिन सरकार की यह योजना तभी कारगर साबित हो सकती है, जब इस वायरस से बचने का प्रयास हम सभी अपने-अपने स्तर पर करें। आइए जानते हैं कि फेफड़ों को और हमारे श्वांस तंत्र को कमजोर करनेवाले वायरस कोरोना से बचने के लिए Kapalbhati प्राणायाम के जरिए कैसे अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जाए…

    कपाल का अर्थ होता है खोपड़ी और भाति यानी हल्का करना। अर्थात सांसों के जरिए अपने दिमाग और शरीर को हल्का करना। कपालभाति के दौरान श्वास प्रक्रिया को इस प्रकार नियंत्रित किया जाता है कि शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह तेज होता है। इससे हमारी बॉडी का स्ट्रैस रिलीज होता है और हम लाइट फील करते हैं।

    बॉडी प्यूरिफिकेशन
    कपालभांति की प्रक्रिया के दौरान हमारी बॉडी का प्यूरिफिकेशन होता है और शरीर के टॉक्सिन या वेस्ट मैटर रिलीज हो जाते हैं। इससे हमारा शरीर जीवंतता आती है और हम पहले की तुलना में अधिक ऊर्जावान महसूस करते हैं।

    यह भी पढ़ें: कोरोना से लड़ने के लिए इस वक्त विटमिन-C से भरपूर डायट है बेहद जरूरी

    इन बीमारियों को दूर करे
    कपालभाति हमारे फेफड़ों की सफाई और इन्हें मजबूत बनाने का काम करता है। इस कारण हम कई सांस संबंधी कई बीमारियों और एलर्जी से बचे रह सकते हैं। क्योंकि कोरोना वायरस भी हमारे श्वशन तंत्र पर अटैक करता है, ऐसे में कपालभाति हमारे फेफड़ों और श्वसन तंत्र की वायरस से लड़ने की क्षमता बढ़ाने में मददगार साबित हो सकता है।

    सांस अंदर लेते वक्त पेट बाहर करें और सांस छोड़ते वक्त पेट अंदर खींचें

    यह भी पढ़ें: डिवॉर्स का […]

    Read More

    466 points
    Upvote Downvote
  • नए अनुभवों और सफर की शुरुआत हो सकता है रिटायरमेंट,बढ़ती उम्र के इस पड़ाव को बनाए रोचक और मजेदार

    Retirement can be the beginning of new experiences and journey, make this stage of growing age interesting and fun

    दैनिक भास्कर

    Mar 25, 2020, 01:24 PM IST

    लाइफस्टाइल डेस्क. रिटायरमेंट शब्द जेहन में आते ही बढ़ती उम्र का ख्याल आने लगता है। रिटायरमेंट के बाद अधिकतर सभी लोग अपना सारा समय घर पर बिताते हैं और हर रोज एक ही तरह की दिनचर्या से ऊबने लगते हैं। अधिकतर लोगों को लगता है कि रिटायर होते ही जीवन नीरस हो जाएगा, ऊब होगी, खाली समय कैसे निकलेगा वगैरह-वगैरह। यदि आप भी ऐसा सोचते हैं तो अब अपनी सोच को बदल डालिए। क्लीनिकल साइकोलॉजिस डॉ. पूनम सिंह जानें कुछ सुझाव जो सेवानिवृत्ति के बाद के आपके सफर को रोचक और मजेदार बना देंगे।

    पहले से योजना बनाएंरिटायरमेंट के पहले सभी की स्थायी दिनचर्या होती है। समय से उठना, तैयार होना, ऑफिस निकलना। रिटायरमेंट के बाद इसी दिनचर्या को यथावत रखना मुश्किल होता है। ऐसे में सेवानिवृत्ति के पहले ही दिनचर्या को लेकर योजना बना लेनी चाहिए। इसमें उठने के समय से लेकर चाय पीना, अख़बार पढ़ना, व्यायाम करने का समय तय होना चाहिए। इसके बाद बाकी के दिन क्या कुछ करना चाहते हैं उसकी रूपरेखा भी तय कर लें। रिटायरमेंट के बाद दिन की शुरुआत करने में समस्या नहीं होगी।

    लक्ष्य निर्धारित कर लेंसेवाकाल के पहले लक्ष्य तय होते हैं, जैसे कि हर दिन काम की समय सीमा बनाना, परियोजनाओं को पूरा करना, पदोन्नति प्राप्त करना आदि। रिटायर होने के बाद भी लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं, हालांकि वे पहले की तुलना में थोड़े अलग हो सकते हैं। उदाहरण के तौर पर 5 किताब पढ़ना चाहते हैं, तो उन्हें ख़त्म करने का समय तय करें। एक साल में कहां-कहां घूमने जाना चाहते हैं उन जगहों के बारे में विचार करें। इससे आप पहले से ही अपने लक्ष्यों को लेकर मानसिक रूप से […]

    Read More

    466 points
    Upvote Downvote
  • डिवॉर्स का बच्चे की मेंटल हेल्थ पर होता है ऐसा असर, उम्र के हिसाब से करें डील

    डिवॉर्स का बच्चे की मेंटल हेल्थ पर होता है ऐसा असर, उम्र के हिसाब से करें डील

    Published By Garima Singh | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 24 Mar 2020, 09:05:00 PM IST

    पैरंट्स के बीच डिवॉर्स का बच्चे की मानसिक हालत पर क्या असर पड़ेगा यह उस बच्चे की उम्र पर अधिक निर्भर करता है। ऐसे में अलग हो रहे माता-पिता को इस बात को डील करना आना चाहिए कि वे अपने बच्चे को अपने सेपरेशन के बारे में किस तरह बताएं ताकि बच्चा मानसिक तौर पर प्रताड़ित महसूस ना करे और उसे भविष्य में किसी तरह के डिसऑर्डर या मानसिक तनाव का सामना ना करना पड़े…

    ये हैं रेड फ्लेग्स

    बच्चे के व्यवहार में कुछ ऐसे परिवर्तन आते हैं जिन्हें आप समझ सकते हैं कि आपके अलगाव का बच्चे के मन पर क्या असर पड़ रहा है। जैसे…
    -एकाग्रता में कमी
    -पढ़ाई में मन ना लगना और लगातार रिजल्ट खराब होना
    -लगातार चिड़चिड़ा रहना
    -हम उम्र बच्चों के साथ बढ़ते झगड़े
    -जिद्दी हो जाना
    -पैरंट्स की बात को अनसुना करना
    -हर छोटी-बड़ी बात पर गुस्सा दिखाना
    -प्रियजनों से दूरी बनाना
    -मनपसंद कामों से दूरी बना लेना
    -खुद को चोट पहुंचाना- इसमें कलाई काटना, थाई पर कट लगाना या पेट पर कट लगाना मुख्य रूप से शामिल हैं।
    -नींद ना आना या नींद बहुत आना
    -खाने में रुचि में ना लेना या अत्यधिक खाना
    -ड्रग्स और एल्कोहल की लत लगता

    यह भी पढ़ें: टीबी के बारे में जरूर पता होनी चाहिए ये 9 बातें

    डिवॉर्स के दौरान बच्चे की मानसिक हालत

    डिवॉर्स के दौरान ऐसे करें बच्चे की मदद
    आप अपनी टॉप प्रायॉरिटी में बच्चे की जरूरतों और उसके इमोशंस को रखें। ताकि बच्चा जिस दर्द से गुजर रहा है, उसे बढ़ने से रोका जा सके।
    क्योंकि बच्चे के लिए डिवॉर्स बहुत कंफ्यूजिंग होता होता है। वह सोच नहीं पाता कि इसके बाद उसके साथ क्या होगा, उसे वैल्यू मिलेगी या नहीं, कोई […]

    Read More

    509 points
    Upvote Downvote
  • क्यों इस वक्त विटमिन-C से भरपूर डायट है बेहद जरूरी, जानें वजह

    क्यों इस वक्त विटमिन-C से भरपूर डायट है बेहद जरूरी, जानें वजह

    Published By Garima Singh | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 24 Mar 2020, 06:45:00 PM IST

    शरीर के लिए विटमिन्स की जरूरत से जुड़े कई शोधों में यह बात सामने आ चुकी है कि विटमिन-C हमारे इम्यून सेल्स (White Blood Cells) बढ़ाने में मदद करता है। इनमें लिंफोसाइट्स (Lymphocytes) और फैगोसाइट्स (Phagocytes) मुख्य रूप से शामिल हैं। ये हमारी बॉडी को इंफेक्शन्स से बचाने में मदद करते हैं।

    डैमेज से बचाए
    विटमिन-C हमारी बॉडी में ना केवल WBC की मात्रा बढ़ाने में मदद करता है बल्कि उन्हें हार्मफुल मॉलेक्यूल्स से सुरक्षा भी प्रदान करता है। जैसे कि फ्री रेडिकल्स यानी शरीर में पाए जाने वाले मुक्त कण।

    फ्लू से लड़ने की क्षमता बढ़ाती है विटमिन-सी

    त्वचा की सुरक्षा
    विटमिन-C हमारी त्वचा की कोशिकाओं को स्वस्थ बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। स्किन के लिए विटमिन-C ऐंटिऑक्सीडेंट्स की तरह काम करता है। और त्वचा की ऊपरी सुरक्षा परत को मजबूत बनाता है। कुछ स्टडीज में यह बात सामने आई है कि विटमिन-C घावों के भरने का समय काफी कम करता है। यानी विटमिन-C से भरपूर डायट लेने पर चोट को जल्दी ठीक करने में मदद मिलती है।

    यह भी पढ़ें:टीबी के बारे में जरूर पता होनी चाहिए ये 9 बातें

    विटमिन-C की मात्रा कम होने के नुकसान
    अगर शरीर में विटमिन-C की मात्रा आवश्यकता से कम होती है तो व्यक्ति में कई बीमारियों के होने की संभावना बन जाती है। जैसे कि निमोनिया। कई केसेज में देखा गया है कि निमोनिया के मरीज को यदि विटमिन-C के सप्लिमेंट्स दिए जाएं तो मरीज जल्दी ठीक होता है।

    कोरोना में विटमिन-C के फायदे
    आपको जरूर पता होगा कि जिस व्यक्ति Covid-19 का शिकार हो जाता है, उसके शरीर में निमोनिया तेजी से बढ़ता है। ऐसे में हेल्थ एक्सपर्ट्स का […]

    Read More

    509 points
    Upvote Downvote
  • Hantavirus : कोरोना के बाद चीन में अब हंता वायरस का नया मामला, जाने क्या हैं लक्षण

    Hantavirus : कोरोना के बाद चीन में अब हंता वायरस का नया मामला, जाने क्या हैं लक्षण

    Published By Somendra Singh | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 24 Mar 2020, 05:08:00 PM IST

    पूरी दुनिया कोरोना वायरस के कारण सहमी हुई है तो वही चीन में एक नए वायरस के संक्रमण ने वहां के लोगों के साथ-साथ पूरी दुनिया को इसके बारे में परेशान कर दिया है। शुरुआती जानकारी के अनुसार यह वायरस covid-19 जितना खतरनाक नहीं है। चीन में कोरोना वायरस के कारण हजारों लोगों की मौत हो गई है, इसी बीच इस वायरस के बारे में भी लोग जानना चाह रहे हैं। इसके कारण चीन में एक इंसान की मौत भी हो चुकी है। हंता वायरस कितना खतरनाक है और उसके लक्षण क्या है इसके बारे में नीचे आपको पूरी जानकारी दी जा रही है।

    क्या है हंता वायरस (Hantavirus)

    कोरोना वायरस के कारण चीन पहले ही परेशान था लेकिन चीन के यूनान में हंता वायरस कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई। विशेषज्ञों के अनुसार हंता वायरस चूहों और गिलहरियों के संपर्क में आने के कारण फैलता है। अभी तक के किए गए शोध के अनुसार यह वायरस हवा के जरिए नहीं फैलता और ना ही पर्सन टू पर्सन। लेकिन अगर कोई व्यक्ति चूहा या गिलहरी के संपर्क में आता है तो, उसे हंता वायरस का संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है। हंता वायरस के कारण लोगों में हंता वायरस रोग हो जाता है, जिसके कारण इंसान की मौत भी हो सकती है।

    क्या है हंता वायरस के लक्षण
    हंता वायरस के लक्षण को आप बड़ी आसानी से पहचान सकते हैं। सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल और प्रेवेंशन के अनुसार जब कोई इंसान हंता वायरस से संक्रमित हो जाता है तो उसे 101 डिग्री के ऊपर बुखार होता है, उसकी मांसपेशियों में दर्द रहता है […]

    Read More

    509 points
    Upvote Downvote