in

YOGA SESSION: सूर्य नमस्‍कार के साथ करें दिन की शुरुआत, हमेशा रहेंगे निरोगी और फिट

हाइलाइट्स

स्वस्थ और फिट रहने के लिए हर दिन योग करना जरूरी होता है.सूर्य नमस्कार से आप फिजिकली और मेंटली फिट रह सकते हैं.

Yoga Session With Savita Yadav: अगर आप दिन की शुरुआत सूर्य नमस्‍कार के साथ करें तो हार्ट, लंग, आर्टरी, डाइजेशन से लेकर शरीर के तमाम अंगों की स्‍ट्रेंथ को बढ़ा सकते हैं. कुछ लोग अपने बॉडी को बिना वार्मअप किए ही सूर्य नमस्‍कार करना शुरू कर देते हैं, जो गलत तरीका है. जब भी आप सूर्य नमस्‍कार करें तो पहले कुछ सूक्ष्‍मयाम कर लें. ऐसा करने से आपका शरीर सूर्य नमस्‍कार के लिए तैयार हो जाता है और आप बेहतर तरीके से इसका अभ्‍यास कर पाते हैं. आज योग प्रशिक्षिका सविता यादव ने न्यूज़18 के लाइव योगा सेशन में कुछ सूक्ष्‍मयामों के बाद सूर्य नमस्‍कार का अभ्‍यास कराया.

इस तरह शुरू करें अभ्‍यास
अपने मैट पर पद्मासन या अर्धपद्मासन में बैठें और ध्‍यान की मुद्रा बनाते हुए ओम शब्‍द का उच्‍चारण करें. अपनी आती-जाती सांस पर ध्‍यान लगाएं. ऐसा आप 5 मिनट तक करें.

सूक्ष्‍मयाम करें
आप मैट पर दोनों पैरों को आगे की तरफ सीधा खोलें और पंजों को आगे पीछे स्‍ट्रेच करें. अब ऐसे ही पंजों को 10 बार रोटेट करें. विस्‍तार से देखने के लिए आप नीचे दिए गए वीडियो लिंक पर क्लिक करें.

सूर्य नमस्‍कार करने का तरीका

प्रणामासन (Pranamasana)
मैट पर खड़े हो जाएं और अपनी कमर को सीधा रखते हुए हाथ से प्रणाम की मुद्रा बनाएं. आंख बंद कर गहरी सांस लें.

हस्तउत्तनासन (Hasta Uttanasana)
अपने हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं और पीछे की तरफ धीरे धीरे झुकाएं. इस मुद्रा में जितना हो सके होल्‍ड करें.

पादहस्तासन (Padahastasana)
सांस छोड़ते हुए आगे की तरफ झुकें और अपने हाथों से पैरों की उंगलियों को छूने का प्रयास करें.

यह भी पढ़ेंः कमर पर जमा हो गई है चर्बी तो इस योगासन से पाएं निजात, जानें तरीका

अश्व संचालनासन (Ashwa Sanchalanasana)
एक पैर को पीछे की ओर ले जाएं और घुटना जमीन से लगाते हुए दूसरे पैर को पीछे की तरफ स्‍ट्रेच करें. अपनी हथेलियों को जमीन पर सीधा रखें और ऊपर सिर रखकर सामने की ओर देखने का प्रयास करें.

दंडासन (Dandasana)
अपने दोनों हाथों और पैरों से सीधा लाइन बनाते हुए पुश-अप करने की अवस्था में आ जाएं.

अष्टांग नमस्कार (Ashtanga Namaskara)
अष्टांग नमस्कार के लिए अपनी दोनों हथेलियों, सीना, घुटने और पैरों को जमीन से सटाएं. इस अवस्था में कुछ देर रहें.

यह भी पढ़ेंः शरीर को फुर्तीला बनाना है तो इस तरह करें योगाभ्‍यास, दूर होगी अकड़न

भुजंगासन (Bhujangasana)
अपनी दोनों हथेलियों को जमीन पर रखें और पेट को जमीन से सटाते हुए गर्दन को पीछे की ओर झुकाएं.

अधोमुख शवासन (Adho Mukha Svanasana)
अपने पैरों को जमीन पर सीधा रखें और कूल्हे को ऊपर की ओर उठाते हुए अपने कंधों को सीधा रखें. चेहरे को अंदर की तरफ रखें.

अश्व संचालनासन (Ashwa Sanchalanasana)
अब अपने दूसरे पैर को पीछे की ओर ले जाएं और घुटना जमीन से रखते हुए पहले पैर को मोड़े. हथेलियों से जमीन को छुएं और आसमान की ओर देखें.

पादहस्तासन (Padahastasana)
अब आगे की ओर झुककर हाथों से पैरों की उंगलियों को छुएं. प्रयास करे कि सिर घुटनों से सटा हो.

हस्तउत्तनासन (Hasta Uttanasana)
अब प्रणामासन में खड़े होकर अपने हाथों को ऊपर उठा लें और सीधा रखें. अब हाथों को प्रणाम करने की मुद्रा में पीछे की ओर ले जाएं और पीछे की तरफ झुकाएं.

प्रणामासन (Pranamasana)
हाथों से प्रणामासन की मुद्रा बनाकर सीधा खड़े हो जाएं और आगे की तरफ देखें. आप अपनी क्षमता के अनुसार इस पूरे चक्र को कई बार कर सकते हैं.

Tags: Benefits of yoga, Health, Lifestyle, Yoga

Source link

ऋतिक की रूमर्ड GF सबा आजाद ने बताया क्यों बदला अपना नाम? जानिए किसके सरनेम को अपना कर बनाई है पहचान

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में ‘दयाबेन’ की वापसी पर असित मोदी ने कही दिल की बात, जानकर आप भी हो जाएंगे खुश